Kamal Nath: लोकतंत्र के इतिहास में काले अक्षरों से लिखा जाएगा गद्दारों का नाम

कमलनाथ ने कहा है कि उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया और शिवराज को कभी कुत्ता-कमीना नहीं कहा

Updated: Nov 02, 2020, 06:18 PM IST

Kamal Nath: लोकतंत्र के इतिहास में काले अक्षरों से लिखा जाएगा गद्दारों का नाम
Photo Courtesy: Indian Express

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि जब लोकतंत्र का इतिहास लिखा जाएगा, तब उसमें एक पन्ना प्रदेश के उपचुनाव का भी होगा, जिसमें गद्दारों का नाम काले अक्षरों में लिखा जाएगा। कमल नाथ ने मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा कि अब उनकी सौदे की सरकार का अंतिम समय आ गया है।

कमल नाथ ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान कहा कि मुझे 28 सीटों के मतदाताओं पर पूरा भरोसा है कि वो इस चुनाव में गद्दारों को सब सिखाएंगे। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ घंटों में बीजेपी ने वोटरों को लुभाने के लिए पैसे और शराब बांटना शुरू कर दिया है। इससे पता चलता है कि बीजेपी अब खुद भी समझ चुकी है कि वो इस चुनाव में न सिर्फ हार रही है बल्कि बुरी तरह पिट रही है। कमलनाथ की मीडिया से इस बातचीत को मध्य प्रदेश कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर भी किया है।

 

 

यह भी पढ़ें: सुवासरा उपचुनाव: पैसे-शराब का प्रलोभन रोकने के लिए लोगों ने तैयार की लाठी

सिंधिया और शिवराज को कभी कुत्ता कमीना नहीं कहा 
कमल नाथ ने कहा कि उन्होंने कभी भी ज्योतिरादित्य सिंधिया और शिवराज सिंह चौहान को कुत्ता और कमीना नहीं कहा। कमल नाथ ने कहा कि मुझे इस बात का दुःख है कि शिवराज जी कहते हैं कि मैंने उन्हें कमीना कहा, ज्योतिरादित्य सिंधिया कहते हैं कि मैंने उन्हें कुत्ता कहा दोनों नेता इस बात का कोई प्रमाण दे दें। मैंने ऐसा कभी नहीं कहा। 

यह भी पढ़ें: सांवेर उपचुनाव: कांग्रेस ने वापस कराईं साड़ियां, सिलावट पर है साड़ी बंटवाने का आरोप

कमल नाथ ने कहा कि शिवराज सिंह ने मुझे पापी कहा था बदले में मैंने उनसे पूछा था कि मैंने कौनसा पाप किया था। शिवराज जी ने कहा कि मैंने किसानों का कर्ज़ा माफ नहीं किया। जबकि खुद उनकी सरकार ने माना है कि मैंने 27 लाख किसानों का कर्ज़ा माफ किया। अगले चरणों में मैं अन्य किसानों का भी कर्ज़ा माफ करने वाला था। शिवराज जी कहते हैं कि मैंने बच्चों की पढ़ाई का पैसा रोक लिया था। शिवराज सिर्फ झूठ पर झूठ बोले जा रहे हैं। मुझे विश्वास नहीं होता कि कोई इतनी बेशर्मी के साथ झूठ कैसे बोल सकता है ?