ग्वालियर नगर निगम का सेनेटरी इंस्पेक्टर 5 हजार रुपए की घूस लेते पकड़ाया, लोकायुक्त की कार्रवाई

अपने जूनियर सफाई कर्मचारी की सैलरी निकालने की एवज में सेनेटरी इंस्पेक्टर मांग रहा था घूस, दो महीने की सैलरी के बदले मांगी थी 10 प्रतिशत राशि, लोकायुक्त ने रंगे हाथ किया गिरफ्तार

Updated: Jul 15, 2021, 01:19 PM IST

ग्वालियर नगर निगम का सेनेटरी इंस्पेक्टर 5 हजार रुपए की घूस लेते पकड़ाया, लोकायुक्त की कार्रवाई
Photo Courtesy: Patrika

ग्वालियर। शहर को स्मार्ट सिटी बनाते-बनाते अब नगर निगम रिश्वतखोरी के मामले में अवव्ल आने की तैयारी में है। गुरुवार सुबह ग्वालियर नगर निगम का एक सेनेटरी इंस्पेक्टर अपने जूनियर से पांच हजार रुपए की घूस लेते रंगेहाथ पकड़ा गया है। फरियादी नगर निगम कर्मचारी की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने सेनेटरी इंस्पेक्टर के खिलाफ कार्रवाई की और 5 हजार रुपए लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया है।

दरअसल ग्वालियर नगर निगम के सफाईकर्मी लक्ष्मण ने सेनेटरी इंस्पेक्टर अशोक धवल के खिलाफ शिकायत की थी। आरोपी सेनेटरी इंस्पेक्टर फरियादी लक्ष्मण की दो महीने की सैलरी जारी करने के बदले पांच हजार रुपए की घूस मांग रहा था। उसके करीब 60 हजार रुपए का भुगतान किया जाना था, जिसे लेकर सेनेटरी इंस्पेक्टर लगातार टाला मटोली कर रहा था। उसका कहना था कि अपनी सेलरी का 10 प्रतिशत मुझे दो तभी तुम्हारे पैसे निकलेंगे। आखिरकार परेशान होकर फरियादी सफाईकर्मी लक्ष्मण ने आरोपी सेनेटरी इंस्पेक्टर अशोक धवल की शिकायत लोकायुक्त में कर दी। जिसके बाद लोकायुक्त पुलिस ने प्लान बनाकर आरोपी को गिरफ्तार किया।

और पढ़ें: काली कमाई के कुबेर, मप्र के अफसर के यहां मिला 80 लाख कैश, 1 किलो सोने की ईंट समेत 5 करोड़ से ज्यादा का खुलासा

ग्वालियर के पड़ाव थाना इलाके के नगर निगम स्टाफ क्वार्टर के पास उसे पैसे देने के लिए बुलाया। जैसे ही फरियादी ने आरोपी अशोक धवल को रुपए दिए वैसे ही लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी अफसर को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद आरोपी खुद को फंसाने का आरोप लगाता रहा। गिरफ्तार करने के बाद लोकायुक्त की टीम आरोपी से पूछताछ में जुटी है।  

और पढ़ें: ग्वालियर में EOW का छापा, PWD के SDO के यहां से मिली 20 करोड़ की बेनामी संपत्ति

 दरअसल इनदिनों प्रदेश में एक के बाद एक घूसखोरों के खुलासे हो रहे हैं। हाल ही में ग्वालियर के PWD विभाग के SDO के यहां 20 करोड़ की प्रापर्टी का खुलासा हुआ था। वहीं उमरिया के सहायक भू-सर्वेक्षण अधिकारी के यहां से लोकायुक्त ने 80 लाख कैश, एक किलो सोने की ईंट समेत 5 करोड़ से ज्यादा का खुलासा किया था।