भोपाल में जलसंकट बरकरार, एक ही दिन में निगम के पास पहुंची 4 हजार टैंकरों की मांग

नर्मदा से जलापूर्ति बाधित होने का असर शुक्रवार को शहर में जलसंकट के तौर पर नजर आया, एक ही दिन में 4 हजार टैंकर की डिमांड हुई, अधिकांश को निराशा हाथ लगी, शनिवार को भी सप्लाई नहीं हुआ

Updated: May 28, 2022, 11:56 AM IST

भोपाल में जलसंकट बरकरार, एक ही दिन में निगम के पास पहुंची 4 हजार टैंकरों की मांग

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रहवासी आज यानी शनिवार को भी जल संकट से जूझ रहे हैं। नर्मदा लाइन से जुड़े 125 से ज्यादा इलाकों में शनिवार सुबह भी पानी नहीं आई। जलापूर्ति नहीं होने के कारण रहवासी खासे परेशान नजर आ रहे हैं। शहर के लगभग 40 फीसद हिस्से में जलसंकट गहरा गया है। शनिवार सुबह भी जब आपूर्ति ठप रही तो लोग पानी के लिए दूर दराज के हैंडपंप पर पहुंचे तो कुछ जगहों पर ट्यूबवेल से पानी भरने भी लोग पहुंचे। 

नगर निगम भी कुछ इलाकों में टैंकरों से पानी पहुंचा रहा है लेकिन ये नाकाफी है। रहवासियों को पानी में बिना कितनी दिक्कत हुई इसका अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है कि शुक्रवार को पानी के टैंकरों के लिए निगम के कॉल सेंटर से लेकर जलकार्य इंजीनियरों व वार्ड कार्यालयों में करीब 4 हजार लोगों ने टैंकरों की मांग की। हालांकि अधिकांश को निराशा ही हाथ लगी। लोगों ने 800 रुपए से 1000 रुपए तक देकर निजी टैंकरों से पानी भरवाया। शनिवार को भी सुबह पानी नहीं आया। हालांकि, अब शाम को जलापूर्ति बहाल होने का आश्वासन दिया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: ग्वालियर: मॉक पोल में ही फेल हुआ ईवीएम, कांग्रेस नेता ने उठाए सवाल, बड़े स्तर पर धांधली का लगाया आरोप

दरअसल, टावर लाइन का काम करने के लिए बिजली कंपनी ने 36 घंटे का शटडाउन लिया है। यह शनिवार दोपहर तक रहेगा। यदि समय पर पंप गृह की विद्युत आपूर्ति शुरू हो गई तो नगर निगम ने दावा किया है कि वह नर्मदा पाइप लाइन से जलापूर्ति शुरू कर देगा। ऐसे में यदि विद्युत आपूर्ति को लेकर समस्या लगा तो शहर में शनिवार को जलसंकट बना रहेगा।

भोपाल में करीब 40% हिस्से में नर्मदा का पानी सप्लाई होता है। नगर निगम नर्मदा जलप्रदाय प्रोजेक्ट के पंप हाउस में बिजली लाइन सुधारने का हवाला देकर 36 घंटे का शट डाउन किया गया है। बताया जा रहा है कि आंधी-तूफान के कारण जहानपुर के पास 132 केवीए लाइन के पांच टॉवर गिर गए थे। जिसके कारण हिरानी स्थित पंप हाउस पर बिजली सप्लाई बाधित हो गई थी और इसके चलते अब जलापूर्ति व्यवस्था बिगड़ी हुई है। 

बता दें कि इससे पहले लगातार चार दिन तक शहर में पानी की व्यवस्था गड़बड़ा चुकी है। गर्मियों के मौसम में आए दिन नर्मदा लाइन बाधित होने के कारण राजधानी में रहने वाले लोग खासे परेशान हैं।