मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस हुए कोरोना संक्रमित

सीनियर IAS इकबाल सिंह बैस की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, वे आइसोलेट हो गए हैं, मुख्य सचिव मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ कैबिनेट समेत कई बैठकों में शामिल रहे हैं

Updated: Apr 24, 2021, 08:51 PM IST

मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस हुए कोरोना संक्रमित
Photo courtesy: YouTube

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस कोरोना की चपेट में आ गए हैं। शनिवार को हुए टेस्ट में उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद उन्होंने खुद को आइसोलेट कर लिया है। हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ होनेवाली कैबिनेट की बैठकों और कोरोना समीक्षा बैठकों में वे शामिल होते रहे हैं। मुख्य सचिव के संक्रमित होने के बाद मुख्यमंत्री समेत कैबिनेट के अन्य सदस्यों पर एक बार फिर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है।  

बैठकों में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, स्वास्थ्य मंत्री डाक्टर प्रभुराम चौधरी, नरोत्तम मिश्रा समेत कई मंत्री और अफसर शामिल होते रहे हैं। मुख्य सचिव मंत्रालय में भी सक्रिय रहे हैं। उन्होंने अपने संपर्क में आए लोगों से सतर्कता बरतने औऱ कोरोना टेस्ट कराने की अपील की है।

और पढ़ें: शिवराज के नकारेपन की सज़ा भुगत रहा है पूरा प्रदेश, ग्वालियर में ऑक्सीजन की कमी से दो लोगों की मौत पर कमल नाथ का प्रहार

गौरतलब है कि बीते दिनों भोपाल स्थित पुलिस हेड क्वार्टर के पांच IPS अफसर कोरोना की चपेट में आ गए थे, वहीं EOW के अधिकारी भी कोरोना से अछूते नहीं है। राज्य में बीते 24 घंटों में 12,919 मरीज मिले हैं। फिलहाल मध्यप्रदेश की कोविड पॉजिटिव दर 23 फीसदी है। मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 104 मरीजों की मौत हुई है। सरकारी आंकडों के हिसाब से प्रदेश में अप्रैल में अब तक कुल 1,027 लोगों की मौत हुई है।  

और पढ़ें:पूर्व मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर की तबीयत बिगड़ी, एयर एम्बुलेंस से भोपाल लाने की तैयारी

 प्रदेश के कई जिलों में बेकाबू कोरोना की रफ्तार पर लगाम लगाने के लिए लॉकडाउन लगाया गया है। प्रशासन ने अशोक नगर और बैतूल में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लिया है। भोपाल, इंदौर, जबलपुर, रीवा समेत कई जिलों में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन है, प्रशासन ने अगले आदेश तक शादियों पर भी रोक लगा दी है।

लेकिन प्रदेश में कोरोना से बिगड़े हालात का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि प्रदेश के बड़े बड़े अस्पतालों ने अपने यहां नो एंट्री के बोर्ड लगा दिए हैं। लोगों को अस्पताल में दाखिले के लिए भी सिफारिशें करानी पड़ रही हैं। दाखिले के बाद दवाई, इलाज और ऑक्सीजन के लिए भटकना आम बात हो गयी है। अनेक जगहों से दवाओं की कालाबाज़ारी की भी खबरें सामने आ रही हैं।