मध्य प्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए लॉबिंग शुरू, जून में खाली होंगी ये सीटें

29 जून को खत्म हो रहा है विवेक तन्खा, एमजे अकबर और सम्पतिया उइके का कार्यकाल, इस बार ओबीसी नेता को दिल्ली भेजने का दबाव, उमा भारती भी कर रही हैं दावेदारी

Updated: Jan 05, 2022, 12:06 PM IST

मध्य प्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए लॉबिंग शुरू, जून में खाली होंगी ये सीटें

भोपाल। मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद निर्वाचित होने के लिए लॉबिंग शुरू हो गई है। जून 2022 में प्रदेश से राज्यसभा की तीन सीटें खाली हो रही है। दरअसल, पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर, आदिवासी नेता सम्पतिया उइके और कांग्रेस के विवेक तन्खा का कार्यकाल खत्म हो रहा है। 

माना जा रहा है कि इस बार बीजेपी और कांग्रेस दोनों पार्टियों पर राज्यसभा चुनाव के लिए ओबीसी उम्मीदवार को उतारने का दबाव होगा। मौजूदा विधानसभा की स्थिति के मुताबिक इनमें से दो सीटें बीजेपी वहीं एक सीट कांग्रेस के खाते में जाती दिख रही है। राज्यसभा चुनाव के लिए भले ही पांच महीने बाकी हों लेकिन भोपाल से लेकर दिल्ली तक इसकी लॉबिंग शुरू हो गई है। 

यह भी पढ़ें: Omicron पर WHO ने दुनिया को चेताया, बढ़ते केस ज्यादा खतरनाक वेरिएंट को दे सकते हैं जन्म

बीजेपी में दावेदारों की लंबी फेहरिस्त है वहीं कांग्रेस से किसे मौका मिलेगा यह हाईकमान को तय करना है। बीजेपी की ओर से दावेदारों में पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती भी शामिल हैं। उमा भारती ने पिछले साल भी राज्यसभा टिकट नहीं मिलने के बाद सरकार विरोधी बयानबाजी शुरू कर दिया था। तब वह राज्यसभा जाने को लेकर आश्वस्त थीं लेकिन अचानक दक्षिण भारत के नेता एल मुरुगन को पार्टी ने उम्मीदवार घोषित कर दिया था।

वर्तमान राजनीतिक माहौल को देखते हुए ये तय माना जा रहा है की ओबीसी आरक्षण को लेकर शुरू हुआ विवाद बीजेपी को चुनाव में दिक्कत देगा। चूंकि सत्ताधारी दल खुद को ओबीसी हितैषी बताने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। ऐसे में राज्यसभा के लिए ओबीसी वर्ग के नेता को टिकट नहीं देना आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ें: मुकदमा दर्ज होने के बाद तरुण मुरारी ने मांगी माफी, राष्ट्रपिता को बताया था देशद्रोही

बता दें कि राज्य सभा में मध्य प्रदेश की कुल ग्यारह सीटें हैं। इनमें से एमजे अकबर, सम्पतिया उइके और विवेक कृष्ण तन्खा का कार्यकाल 29 जून 2022 को खत्म हो रहा है। एमजे अकबर और विवेक तन्खा 11 जून 2016 को राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए थे। वहीं, सम्पतिया उइके को 31 जुलाई, 2017 को राज्यसभा सांसद चयनित किया गया था। वह केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे के निधन से खाली हुई सीट पर निर्वाचित छुई थी।