MP: लहसुन किसान का फूटा गुस्सा, मंडी के भीतर उपज में लगाई आग, लागत मूल्य भी नहीं मिल रहे थे

जमा पूंजी लगाकर जिस फसल को 5 महीने पसीनों से सींचा, भारत माता की जय बोलकर उसी में लगाई आग, लागत मूल्य से भी कम में बिक रहे हैं लहसुन

Updated: Dec 19, 2021, 04:11 PM IST

MP: लहसुन किसान का फूटा गुस्सा, मंडी के भीतर उपज में लगाई आग, लागत मूल्य भी नहीं मिल रहे थे

मंदसौर। मध्य प्रदेश के मंदसौर से हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई है। यहां एक किसान ने जय जवान, जय किसान और भारत माता की जय के उद्घोष के साथ मंडी के भीतर अपनी ही उपज में आग लगा दिया। बताया जा रहा है कि आग लगाने वाला किसान उपज की सही कीमत नहीं मिलने से परेशान था।

जानकारी के मुताबिक मंदसौर, उज्जैन के इलाके में इस बार लहसुन की अच्छी फसल हुई है। लेकिन समस्या यह है कि व्यापारी उपज का रेट चढ़ने ही नहीं दे रहे हैं। किसान हजार से 2 हजार रुपए प्रति कविंटल की रेट से उपज बेचने को मजबूर हैं। शनिवार को उज्जैन जिले देवली गांव के निवासी किसान शंकर मंदसौर के कृषि उपज मंडी में लहसुन बेचने के लिए आए थे।

यह भी पढ़ें: कचरे का फोटो भेजो और पैसे कमाओ, स्वच्छता के लिए ग्वालियर नगर निगम की अनोखी योजना

उज्जैन से मंदसौर मंडी तक लहसुन लाने में उन्हें करीब 5 हजार रुपए का खर्च आया था। लेकिन यहां उन्हें फसल की कीमत 1100 रुपए प्रति कविंटल ही मिली। इसी बात से वे टूट गए और गुस्से में डेढ़ कविंटल लहसून को आग के हवाले कर लिया। इस दौरान वहां मौजूद किसानों ने 'भारत माता की जय' और 'जय जवान, जय किसान' की नारेबाजी शुरू कर दी।

किसान शंकर के मुताबिक उन्होंने लहसून की फसल में करीब ढाई लाख रुपए खर्च किया है, लेकिन रेट के हिसाब से उन्हें महज एक लाख रुपए मिल रहे हैं। ऐसे में उन्हें डेढ़ लाख रुपए का नुकसान हो रहा है। मामले पर मंडी निरीक्षक जगदीश चंद्र भावर ने कहा कि उन्होंने आग लगाने वाले किसान को पुलिस के हवाले कर दिया है। बताया जा रहा है कि पुलिस अब किसान के खिलाफ ही कार्रवाई करेगी। 

मामले पर कांग्रेस नेता जीतु पटवारी ने कहा है कि, 'खेत-किसान के मुद्दे पर गोली खाने वाला मंदसौर फिर बेचैन है। कृषि उपज मंडी में लहसुन की फसल के कम दाम मिलने से नाराज किसान ने फसल में ही आग लगा दी! शिवराज जी BJP के कुशासन का जवाब किसानों ने चुनाव में दिया था। अब आप हथियाई कुर्सी पर बैठकर बेशर्मी से बदला ले रहे हैं।'