शिवराज सिंह चौहान के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी बीजेपी, हार्डकोर हिंदुत्व के एजेंडे के साथ मैदान में उतरने की तैयारी

गुरुवार को संघ-भाजपा की बैठक में मिशन 2023 को लेकर हुई मंथन, संघ ने खरगोन दंगे को लेकर जताई नाराजगी, नॉन परफॉर्मिंग मंत्रियों की हो सकती है छुट्टी, बैठक में भ्रष्टाचार का भी मुद्दा उठा

Updated: Apr 29, 2022, 10:00 AM IST

शिवराज सिंह चौहान के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी बीजेपी, हार्डकोर हिंदुत्व के एजेंडे के साथ मैदान में उतरने की तैयारी

भोपाल। मध्य प्रदेश में अगले साल होने जा रहे विधानसभा चुनाव में बीजेपी शिवराज सिंह चौहान के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी। जानकारी के मुताबिक यह बात दिल्ली में गुरुवार को हुई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और प्रदेश भाजपा संगठन की बैठक में तय की गई। करीब पौने चार घंटे चली इस समन्वय बैठक में यह भी तय हुआ कि बीजेपी हार्डकोर हिंदुत्व के एजेंडे के साथ मैदान में उतरेगी। 

आरएसएस और बीजेपी नेताओं की यह बैठक दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में न होकर 11 अशोका रोड पर हुई। यह बंगला बीजेपी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष को आवंटित किया गया है। बैठक सुबह 11:30 बजे शुरू हुई जो दोपहर 3:15 बजे तक चली। इसमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, मध्य प्रदेश प्रभारी पी मुरलीधर राव, सर सह कार्यवाह अरूण कुमार, मध्यक्षेत्र के क्षेत्र प्रचारक दीपक विस्पुते, क्षेत्र कार्यवाह अशोक अग्रवाल और मध्यभारत प्रांत के प्रांत कार्यवाह यशवंत इंदापुरकर शामिल हुए।

यह भी पढ़ें: अपने कार्यकर्ताओं की लड़ाई लड़ेगी कांग्रेस, दिग्विजय सिंह ने कहा राजनैतिक दुश्मनी निकाल रही है सरकार

राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष द्वारा बुलाए इस बैठक में सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, सीएम शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा, संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा भी मौजूद रहे। बैठक में तय हुआ कि अगले साल चुनाव होने तक अब हर दो महीने में दिल्ली में इस तरह की एक बैठक होगी।

बताया जा रहा है कि बैठक के दौरान संघ ने शिवराज तंत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर सख्त नाराजगी जताई। ऐसे में संभव है कि अगले महीने ब्यूरोक्रेसी में कुछ अहम बदलाव हो सकते हैं। बैठक में यह भी चर्चा हुई कि खराब परफाॅर्मेंस वाले मंत्रियों के विभाग बदले जाएं। साथ ही पार्टी द्वारा कराए गए आंतरिक सर्वे के आधार पर जल्द 5-6 मंत्रियों को कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखाकर नए चेहरे को आगे किया जाए।

यह भी पढ़ें: डॉ गोविंद सिंह होंगे मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष, कमलनाथ ने दिया इस्तीफा

बैठक के दौरान प्रदेश के आदिवासी वोट को साधने के लिए अगले एक वर्ष तक लगातार बड़े आयोजन करने संबंधी भी चर्चा हुई। इस दौरान आरएसएस नेताओं ने कहा कि कांग्रेस के साथ जयस और भीम आर्मी जैसे संगठन भी सक्रिय हैं। ऐसे में संघ के अनुषांगिक संगठनों में विस्तार के लिए काम करना होगा। इस दौरान भाजपा की नई आठ मंजिला इमारत के निर्माण को लेकर भी सहमति बन गई है। इसका काम अगले महीने से शुरू कर दिया जाएगा।