मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल के 10वीं क्लास का रिजल्ट जारी, सभी साढ़े 10 लाख छात्र पास

साढ़े दस लाख छात्रों में से 3 लाख 56 हजार 582 फर्स्ट डिवीजन, 3 लाख 97 हजार 762 सेकेंड डिवीजन और 15 हजार 871 ने थर्ड डिवीजन में दसवीं क्लास पास की, रिजल्ट से असंतुष्ट छात्र 1 अगस्त से 10 अगस्त के बीच भर सकेंगे फार्म, 1 से 25 सितंबर तक होगी विशेष परीक्षा

Updated: Jul 14, 2021, 05:01 PM IST

मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल के 10वीं क्लास का रिजल्ट जारी, सभी साढ़े 10 लाख छात्र पास
Photo Courtesy: DNA

भोपाल।  स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने एमपीबोर्ड परीक्षा का रिजल्ट सिंगल क्लिक से जारी किया। कोरोना महामारी की वजह से इस बार साल भर के परफॉर्मेंस के आधार पर बच्चों का रिजल्ट तैयार किया गया है। पहला मौका है जब 10वीं क्लास में कोई भी छात्र असफल नहीं हुआ है। इस साल परीक्षा के लिए साढ़े 10 लाख विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था। इनमें से 3 लाख 56 हजार 582 याने 39% छात्रों ने फर्स्ट डिवीजन हासिल किया है। जबकि 3 लाख 97 हजार 762 याने 43.50% छात्रों ने सेकेंड डिवीजन और 15 हजार 871 याने 17.48%  छात्रों ने थर्ड डिवीजन में दसवीं क्लास पास की है।

 

10वीं क्लास के रेग्यूलर स्टूडेंट्स को हाफ इयरली, प्री-बोर्ड, यूनिट टेस्ट और इंटरनल इवेल्यूएशन में मिले नंबर्स के आधार पर रिजल्ट बनाया गया है। वहीं जो छात्र इन एक्जाम में एबसेंट थे उन्हें 33 फीसदी नंबर देकर पास किया गया है। वहीं प्राइवेट छात्रों को भी 33 फीसदी नंबर्स के साथ पास कर दिया गया है। जो छात्र रिजल्ट से खुश नहीं हैं उनके लिए परीक्षा देने का विकल्प भी खुला हुआ है। ऐसे छात्र 1 से 25 सितंबर तक आयोजित विशेष परीक्षा में भाग ले सकेंगे। इस विशेष परीक्षा के लिए छात्रों को 1 से 10 अगस्त के बीच में आनलाइन फार्म भरना होगा। 10वीं के छात्र विभिन्न वेबसाइट और पोर्टल पर रिजल्ट देख सकते हैं। एमपी बोर्ड के पोर्टल https://mpbse.mponline.gov.in, www.mpbse.nic.in, www.mpresults.nic.in पर रिजल्ट देखा जा सकता है।

वहीं मोबाइल एप MPBSE MOBILE ऐप और MP Mobile ऐप पर भी रिजल्ट देख सकते हैं। इसके लिए 'Know Your Result' आप्शन पर जाकर अपना रोल नंबर और एप्लीकेशन नंबर डालना होगा, इसके बाद रिजल्ट देखे जा सकेंगे। इस दसवीं क्लास में लगभग साढ़े 10 लाख छात्रों ने एक्जाम के लिए रजिस्टर किया था। कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों की वजह से परीक्षा रद्द कर दी गई थी। अब छात्रों का रिजल्ट प्री बोर्ड के 50 प्रतिशत, यूनिट टेस्ट के 30 प्रतिशत और आंतरिक मूल्यांकन के 30 प्रतिशत वेटेज के आधार पर तैयार किया गया है। इस साल एमपी बोर्ड रिजल्ट 2021 की कोई मेरिट लिस्ट जारी नहीं हुई है। ना ही मध्यमिक शिक्षा मंडल की तरफ से कोई टॉपर लिस्ट जारी की है।

वहीं पिछले साल कोरोना की वजह से छात्रों के कुछ पेपर नहीं हुए थे। साल 2020 का रिजल्ट बेस्ट ऑफ 3 के आधार पर बनाया गया था। जोकि 4 जुलाई, 2020 को आया था, बीते बरस कुल 70.84 प्रतिशत रिजल्ट आया था। जिसमें 74.97 प्रतिशत लड़कियां और लड़कों का प्रतिशत 67.13 प्रतिशत था। पिछले साल का पूर्णांक 300 कर दिया गया था।