14 माह से लापता बेटी के पिता को उठा ले गई पुलिस, VHP और बजरंग दल ने प्रशासन के खिलाफ खोला मोर्चा

नीमच एसपी कार्यालय पर विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल का प्रदर्शन, शिवराज सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे हिंदू संगठन, 14 महीने से लापता नेहा जोशी के पिता का हड़ताल बना जन आंदोलन

Updated: Apr 01, 2022, 10:11 AM IST

14 माह से लापता बेटी के पिता को उठा ले गई पुलिस, VHP और बजरंग दल ने प्रशासन के खिलाफ खोला मोर्चा

नीमच। 14 महीने से लापता नेहा जोशी कांड में पुलिस की अकर्मण्यता के खिलाफ नीमच के लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को नीमच में सर्व समाज के लोगों ने एसपी कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। खास बात ये है कि विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल जैसे संगठनों ने भी पहली बार शिवराज सरकार के खिलाफ सड़कों पर प्रदर्शन किया। अब खबर आई है कि 24 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठे नेहा जोशी के पिता राकेश जोशी को गुरुवार देर रात पुलिस उठा ले गई।

जानकारी के मुताबिक राकेश जोशी जहां भूख हड़ताल पर बैठे थे, वहां देर रात दर्जनों की संख्या में पुलिसकर्मी पहुंचे और जबरण उन्हें उठाकर अस्पताल ले गए। स्थानीय लोगों के मुताबिक पुलिस ने बलपूर्वक उन्हें अस्पताल में भर्ती करा दिया। स्थानीय लोगों में प्रशासन को चेतावनी दी है कि यदि जोशी को अस्पताल में कुछ हुआ तो इसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। 

दरअसल, नेहा जोशी कांड लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। विपक्ष के नेता तो सवाल उठा ही रहे हैं अब अपहृत बेटी के पिता राकेश जोशी के समर्थन में बीजेपी के समर्थक दल भी विरोध प्रदर्शन पर उतर आए हैं। बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के लोगों ने भी शासन और प्रशासन की अकर्मण्यता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सैंकड़ों की संख्या में विहिप और बजरंग दल से जुड़े लोगों ने गुरुवार को एसपी कार्यालय के सामने नारेबाजी की। इस दौरान करणी सेना व अन्य सामाजिक संगठनों के लोगों का भी उन्हें साथ मिला।

इन संगठनों ने 4 अप्रैल को नीमच बंद का आह्वान भी किया है। माना जा रहा है कि मामला तूल पकड़ता देख प्रशासन ने हड़ताल पर बैठे पिता को अस्पताल में भेज दिया। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि 24 दिन से भूख हड़ताल पर बैठे राकेश जोशी की तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही थी और डॉक्टरों ने उन्हें आईसीयू में भर्ती कराने का सलाह दी है। लेकिन पुलिस के इस व्यवहार पर नाराजगी इसलिए है कि खुद राकेश जोशी (अपह्त लड़की के पिता) स्थानीय पुलिस और खासकर टीआई पर मामले को दबाने का आरोप लगा रहे थे। यही नहीं राकेश जोशी का आरोप है कि टीआई बीते 45-50 दिनों से थाने में उनकी शिकायत नहीं लिख रहे। इसलिए उन्होंने टीआई की बर्खास्तगी की मांग भी की है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, नीमच के मनासा क्षेत्र के आतरीमाता गांव में रहने वाली छात्रा नेहा जोशी बीते साल 23 जनवरी से गायब है। बताया जाता है कि 22 वर्षीय नेहा जोशी को 4 लोग अगवा कर ले गए थे। पुलिस ने आरोपियों को 28 जनवरी को पकड़ लिया। आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल भी कर लिया था और जेल चले गए। बाद में वे छूट गए मगर लड़की यानी नेहा जोशी आजतक नहीं मिली। 

गायब छात्रा नेहा जोशी के पिता राकेश जोशी सत्तारूढ़ दल बीजेपी से जुड़े हुए हैं। बेबस पिता राकेश को अपनी बेटी के लौटने का इंतजार है। पुलिस और प्रशासन से उनकी दो ही मांगें हैं कि अगर उनकी बेटी जीवित है तो बता दें कि कहां हैं और अगर बेटी की हत्या हो गई है तो भी उसे बता दिया जाए, ताकि वो उसका अंतिम संस्कार करा दें। राकेश पिछले 24 दिनों से नीमच जिले में कलेक्ट्रेट के सामने आमरण अनशन पर बैठे हुए थे।

पूर्व सीएम व दिग्गज कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भी लगातार इस मामले पर आवाज उठा रहे हैं। उन्होंने कई दफा सीएम शिवराज से इस घटना को संज्ञान में लेने की अपील की। सिंह के सवाल उठाने के बाद ही नीमच पुलिस अधीक्षक सूरज कुमार वर्मा ने एसआईटी गठित करने का ऐलान किया। लापता युवती के बारे सूचना देने पर इनाम की राशि को दस हजार से बढ़ाकर तीस हजार रुपए कर दिया गया है। लेकिन पिता ही नहीं स्थानीय लोग भी इसे खानापूर्ति ही बता रहे हैं क्योंकि 14 महीने तक पुलिस मूकदर्शक बनी रही और आज भी टीआई के विरुद्ध कोई कार्रवायी नहीं हो रही।