पार्टी नेताओं ने ही विश्वासघात किया, इस वजह से हम 2018 में चुनाव हारे: गुटबाजी पर बोले सीएम शिवराज

मंगलवार को कार्यसमिति की बैठक के दौरान सीएम शिवराज ने पार्टी के कुछ नेताओं पर विश्वासघात का आरोप लगाते हुए कहा कि इस बार ये नहीं चलेगा।

Updated: Jan 25, 2023, 09:57 AM IST

पार्टी नेताओं ने ही विश्वासघात किया, इस वजह से हम 2018 में चुनाव हारे: गुटबाजी पर बोले सीएम शिवराज

भोपाल। मध्य प्रदेश में सत्ताधारी दल भाजपा इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी में लग गई है। इसी क्रम में मंगलवार को भोपाल में बीजेपी कार्यसमिती की बैठक हुई। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पार्टी में व्याप्त अंतर्कलह का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पिछली बार भी हम विश्वासघात के कारण चुनाव हार गए थे।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कार्यसमिति को संबोधित करते हुए कहा कि 2018 चुनाव में बीजेपी की हार के पीछे पार्टी की आपसी खींचतान रही है। हमें पार्टी नेताओं की वजह से ही चुनाव में हार झेलनी पड़ी। हम अपनों के कारण ही चुनाव हारे, नहीं तो दुनिया की कोई ताकत बीजेपी को चुनाव नहीं हरा सकती थी। कई नेताओं ने विश्वासघात किया। हालांकि, इस दौरान मुख्यमंत्री ने किसी भी नेता का नाम नहीं लिया।

यह भी पढ़ें: जनता ने एक बार फिर स्पष्ट कर दिया है कि उसका मन कांग्रेस के पक्ष में है: निकाय चुनाव के नतीजों पर बोले कमलनाथ

बैठक को संबोधित करते हिए सीएम शिवराज ने नगरीय निकाय चुनाव में भी विश्वाघात का दावा किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी के नेता पार्टी के उम्मीदवारों के साथ घूमते रहे। सब को दिखाते रहे की वो पार्टी के साथ है। लेकिन, वो निर्दलीय उम्मीदवार को वोट देने के लिए लोगों को फोन करते रहे। सीएम नेताओं को चेताते हुए कहा कि अब ऐसी मानसिकता अब बिल्कुल नहीं चलेगी।

बता दें कि मंगलवार को राजधानी भोपाल स्थित पार्टी मुख्यालय में कार्यसमिती की बैठक बुलाई गई थी। इस दौरान साल 2023 में चुनाव संबंधी रणनीति बनाई गई। साथ ही कई अहम प्रस्ताव पास किए गए। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा (VD Sharma) ने ''इस बार 200 पार'' का नारा दिया और पार्टी की अगले 200 दिन की कार्ययोजना प्रस्तुत की। जबकि सीएम चौहान ने विश्वासघात खत्म पर जोर दिए। बहरहाल, सीएम शिवराज अपनी मुहिम में सफल होंगे या नहीं ये तो वक्त ही बताएगा। लेकिन सियासी जानकारों का मानना है कि इस बार बीजेपी में अंतर्कलह घटने के बजाए और बढ़ने ही वाली है।