BJP शासित MP में गोवंशों की दुर्दशा, गुना के शासकीय गौशाला में भूख से तड़पकर 9 गायों की मौत

गुना की कैंट गौशाला में भूख और प्यास से तड़पकर 9 गायों की मौत, कांग्रेस बोली- बीजेपी के लिए गाय सिर्फ राजनीति का विषय, जब बात गोवंश के संरक्षण और संवर्धन की आती है तो वे मुंह फेर लेते हैं।

Updated: Dec 27, 2022, 02:54 PM IST

BJP शासित MP में गोवंशों की दुर्दशा, गुना के शासकीय गौशाला में भूख से तड़पकर 9 गायों की मौत

गुना। बीजेपी शासित मध्य प्रदेश में गोवंशों की दुर्दशा की खबरें लगातार सामने आ रही है। इसी क्रम में गुना के शासकीय गौशाला में 9 गोवंशों की मौत का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि भूख और प्यास से तड़पकर इन गायों की मौत हुई है। मामला सामने आने के बाद विपक्षी दल कांग्रेस शिवराज सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस ने कहा कि बीजेपी के लिए गाय सिर्फ राजनीति का विषय, जब बात गोवंश के संरक्षण और संवर्धन की आती है तो वे मुंह फेर लेते हैं।

मामला गुना शहर के कैंट स्थित शासकीय गौशाला का है। गौशाला का संचालन नगर पालिका द्वारा की जाती है। बताया जा रहा है कि गोवंशों को मोटा भूसा दिया जा रहा है, जो वे नहीं खा सकती। इसके अलावा उन्हें कोई पानी पिलाने वाला तक नहीं था। ऐसे में भूख और प्यास से तड़पकर 9 गायों ने दम तोड़ दिया। जब गायों की मौत हुई, तो गोशाला प्रबंधन ने उन्हें भूसे में छिपा कर रख दिया। ताकि किसी को पता ना चल सके।

यह भी पढ़ें: उन्होंने हमारे हिंदू वीरों को काटा है, आप भी चाकू तेज रखो, BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर का भड़काऊ बयान

हालांकि, इस बता की भनक लगते ही वहां बड़ी संख्या में स्थानीय लोग पहुंच गए। स्थानीय लोग मृत गायों के शव लेकर ट्रैक्टर से नगरपालिका मुख्यालय पहुंचे और सभी शवों को गेट पर रख दिया। साथ ही एक शव को नगर पालिका अध्यक्ष के चैम्बर के गेट पर ले जाकर रख दिया। गायों के शव लगभग डेढ़ घंटे तक रखे रहे, तब जाकर नगर पालिका प्रभारी व अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और लो हंगामा कर रहे लोगों को शांत कराया। 

मामला सामने आने के बाद विपक्षी दल कांग्रेस शिवराज सरकार पर हमलावर है। स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने कहा कि नगरपालिका अगर गौशाला का संचालन नहीं कर पा रही है तो उन्हें संचालन का जिम्मा सौंप दिया जाए। वे अपने खर्चे से गोवंशों की सेवा करेंगे। मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आनंद जाट ने घटना को लेकर कहा कि, 'बीजेपी के लिए गाय सिर्फ राजनीति का विषय, जब बात गोवंश के संरक्षण और संवर्धन की आती है तो वे मुंह फेर लेते हैं।'

आनंद जाट ने आगे कहा कि, 'जहां चुनाव होते हैं वहां बीजेपी के लिए गाय माता है, बाकी जगह पर बीफ खाने में इनका कुछ नहीं जाता है। कमलनाथ सरकार ने प्रदेश में गौ माता को आश्रय दिया था। प्रदेश में हजारों गौशालाओं को निर्माण कराया था और चारे के लिए दी जाने वाली राशि बढ़ाकर 20 रुपए किया था। लेकिन अनैतिक रूप से सत्ता में आने के बाद बीजेपी ने चारे की राशि को घटाकर डेढ़ रुपए कर दिया। आज BJP की शासन में गौमाता भूख और प्यास से मर रहीं हैं। सड़कों पर धक्के खाने को मजबूर हैं।लेकिन जिन दंगाइयों में इंसानों के जीवन को लेकर कोई संवेदना नहीं है वे गाय को लेकर संवेदनशील कैसे हो सकते हैं।'