बिजली संकट पर लगातार झूठ परोस रही है शिवराज सरकार, कमल नाथ ने मांगे सवालों के जवाब

कमल नाथ का शिवराज सरकार पर आरोप, बिजली संकट पर लगातार जनता को भ्रमित करने की कोशिश कर रही है शिवराज सरकार, कमल नाथ ने मांगे 9 सवालों पर जवाब

Publish: Sep 02, 2021, 02:44 PM IST

बिजली संकट पर लगातार झूठ परोस रही है शिवराज सरकार, कमल नाथ ने मांगे सवालों के जवाब

भोपाल। मध्य प्रदेश में बिजली संकट लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पीसीसी चीफ कमल नाथ ने बिजली संकट के मुद्दे पर एक बार फिर शिवराज सरकार पर ज़ोरदार हमला बोला है। कमल नाथ ने आरोप लगाया है कि शिवराज सरकार बिजली संकट को लेकर लगातार झूठ परोस रही है। कमल नाथ ने कहा है कि इस संकट के लिए ज़िम्मेदार हर अधिकारी अलग-अलग कारण बता कर झूठ बोल रहा है। 

कमल नाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि कोई भी व्यक्ति बिजली संकट और बिजली कटौती को लेकर सच्चाई स्वीकारने को राज़ी नहीं है। कमल नाथ ने शिवराज सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि शिवराज सरकार बिजली संकट को लेकर पहले मेरे इन सवालों का जवाब दे। कमल नाथ ने कुल 9 बिंदुओं में शिवराज सरकार पर बिजली संकट से जुड़े सवाल दागे हैं। 

कहां पर कितनी हो रही है आपूर्ति और कटौती, कम उत्पादन का क्या है वैकल्पिक इंतज़ाम 

कमल नाथ ने शिवराज सरकार से पूछा है कि मध्य प्रदेश में आज की स्थिति में बिजली की कुल कितनी मांग है और कितनी आपूर्ति की जा रही है और कहाँ- कहाँ से कितनी आपूर्ति की जा रही है? सरकार बतायें कि प्रदेश के किस-किस अंचल में कुल कितने-कितने घंटों की अघोषित कटौती की जा रही है? सरकार बतायें प्रदेश के थर्मल पावर स्टेशनों में कुल कितना बिजली का उत्पादन वर्तमान में हो रहा है और उनकी वास्तविक उत्पादन क्षमता कितनी है,कम उत्पादन के पीछे क्या कारण है और सरकार ने इसको लेकर अभी तक क्या वैकल्पिक इंतज़ाम किये हैं?

यह भी पढ़ें ः मामा तेरे राज में मच्छर खा गए रात में, बिजली अधिकारियों की उदासीनता पर भड़के विधायक का गाना

कोयले की उपलब्धता पर स्थिति स्पष्ट करे सरकार 

कमल नाथ ने शिवराज सरकार को कोयले की उपलब्धा के संबंध में स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है। कमल नाथ ने कहा है कि सरकार बताये कोल कंपनियो को कोयले का कुल कितना भुगतान अभी तक बकाया है,कब से बकाया भुगतान नहीं किया गया है और वर्तमान में यदि भुगतान किया गया है तो कितना?सरकार बताये सभी पावर स्टेशनों में वर्तमान में कोयले की कितना उपलब्धता है,यह कोयला कितने दिन चलेगा और कुल कितने कोयले की वर्तमान में आवश्यकता है? हाल ही में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बिजली संकट के कारणों में एक कारण कोयले की सप्लाई में कमी को भी बताया था। कमल नाथ ने इसलिए सरकार से कोयले की उपलब्धता पर भी स्थिति स्पष्ट करने के लिए कहा है। 

पावर प्लांटों के बारे में जानकारी दे सरकार 

कमल नाथ ने शिवराज सरकार पावर प्लांटों की मौजूदा स्थिति बताने के लिए भी कहा है। कमल नाथ ने कहा है कि सरकार पावर प्लांटों की वर्तमान स्थिति भी स्पष्ट करें कि उनकी वर्तमान में कितनी यूनिट अभी चालू है ,कितनी बंद पड़ी है और बंद के पीछे क्या कारण है? सरकार यह भी स्पष्ट करे कि वर्तमान बिजली संकट को देखते हुए सरकार ने कब और क्या वैकल्पिक इंतजाम किए हैं ?सरकार यह भी स्पष्ट करे कि किन-किन निजी कंपनियो से सरकार का अनुबंध है,इस संकट के समय उनसे कितनी आपूर्ति हुई है और सरकार फ़िक्स चार्ज के रूप में उन्हें कुल कितनी राशि का भुगतान करती है? वर्तमान संकट को देखते हुए सरकार ने कही और से यदि बिजली ख़रीद कर आपूर्ति की है तो किससे,कितनी व किस दर पर? 

यह भी पढ़ें ः गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने माना प्रदेश में बिजली संकट है समस्या, कांग्रेस ने पूछा कौन सच्चा कौन झूठा

दरअसल मध्य प्रदेश के ज़्यादातर हिस्सों में बिजली कटौती की समस्या बनी हुई है। इस संबंध में विपक्ष तो विपक्ष शिवराज सरकार की अपनी पार्टी के विधायक सरकार को घेर रहे हैं। बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी 4 सितंबर को विंध्य क्षेत्र में बिजली कटौती के खिलाफ आंदोलन करने की घोषणा भी कर चुके हैं। वहीं कांग्रेस भी लगातार शिवराज सरकार पर बिजली की समस्या दूर करने का दबाव बना रही है। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ पहले ही शिवराज सरकार को प्रदेश व्यापी आंदोलन की चेतावनी दे चुके हैं।