गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने माना प्रदेश में बिजली संकट है समस्या, कांग्रेस ने पूछा कौन सच्चा कौन झूठा

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कोयले की सप्लाई और बारिश की कमी की वजह से घटा बिजली का उत्पादन, पांच दिन में समस्या के निवारण का दिया आश्वासन

Updated: Aug 31, 2021, 05:18 PM IST

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने माना प्रदेश में बिजली संकट है समस्या, कांग्रेस ने पूछा कौन सच्चा कौन झूठा

भोपाल। बिजली संकट पर कांग्रेस द्वारा लगातार घेरे जाने के बाद आखिरकार शिवराज सरकार ने प्रदेश में बिजली संकट की समस्या को स्वीकार कर लिया है। खुद गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने यह मान लिया है कि प्रदेश बिजली के संकट में है। उन्होंने कहा है कि बारिश की कमी और कोयले की सप्लाई घटने से बिजली उत्पादन में गिरावट आयी है। 

गृह मंत्री के बयान को लेकर कांग्रेस ने तंज कसा है। कांग्रेस ने शिवराज सरकार के मंत्रियों के अलग अलग बयानों को लेकर पूछा है कि आखिर सच कौन बोल रहा है? कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने गृह मंत्री के बयान को साझा करते हुए कहा है कि मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर बिजली कटौती से साफ इनकार कर रहे हैं, जबकि उन्हीं की पार्टी के विधायक इसे लेकर सरकार को घेर रहे हैं। सरकार के प्रवक्ता, गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा जी भी स्वीकार कर रहे हैं कि बिजली कटौती है, अब बताइये सच कौन बोल रहा है?

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से बात करते हुए मध्य प्रदेश में बिजली संकट को लेकर तीन प्रमुख गिनाए हैं। नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि बारिश में कमी कारण बांधों में पर्याप्त पानी नहीं है, जिस वजह से बिजली का उत्पादन घटा है। इसके साथ ही नरोत्तम मिश्रा ने कोयले की सप्लाई में कमी को भी एक बड़ा कारण गिनाया है। इसके अलावा गृह मंत्री ने कहा है कि प्लांट में तकनीकी दिक्कत आई है, जो कि बिजली कटौती का कारण बनी है। गृह मंत्री ने यह आश्वासन दिया है कि पांच दिन में इस समस्या का निवारण कर लिया जाएगा। 

 दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी बिजली संकट के सिलसिले में प्रदेश व्यापी आंदोलन करने की तैयारी कर रही है। कमल नाथ ने सोमवार को ही शिवराज सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर जल्द ही शिवराज सरकार ने प्रदेश की जनता को बिजली संकट से मुक्ति नहीं दिलाई तो कांग्रेस पार्टी इसको लेकर प्रदेश व्यापी आंदोलन करेगी। 

यह भी पढ़ें : जनता को बिजली संकट से मुक्ति दिलाए शिवराज सरकार, अन्यथा प्रदेश व्यापी आंदोलन करेगी कांग्रेस, कमल नाथ की चेतावनी

वहीं बिजली कटौती के मसले पर शिवराज सरकार खुद अपने ही विधायकों से घिर गई है। टीकमगढ़ से बीजेपी के विधायक राकेश गिरी ने सीएम शिवराज को बिजली संकट को लेकर पत्र लिखा है और जल्द ही समस्या को सुलझाने की मांग की है। बीजेपी विधायक ने कहा कि क्षेत्र में 12-15 घंटे की बिजली कटौती के कारण किसानों के साथ साथ क्षेत्र की जनता परेशान है। जबकि मैहर से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने बिजली कटौती को लेकर विंध्य क्षेत्र में 4 सितंबर को आंदोलन करने की घोषणा की है।