हिंदुस्तान तपस्वियों का देश हैं, लेकिन यहां तपस्वियों का अपमान हो रहा है: उज्जैन में बोले राहुल गांधी

तपस्या किसान करता है, मजदूर करता है, हिन्दू धर्म कहता है कि तपस्वियों की पूजा होनी चाहिए, तो तपस्वियों की पूजा क्यों नहीं हो रही: राहुल गांधी

Updated: Nov 30, 2022, 09:58 AM IST

हिंदुस्तान तपस्वियों का देश हैं, लेकिन यहां तपस्वियों का अपमान हो रहा है: उज्जैन में बोले राहुल गांधी

उज्जैन। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा मंगलवार को उज्जैन पहुंची। यहां राहुल गांधी ने बाबा महाकाल का दर्शन लाभ लेने के पश्चात एक जनसभा को संबोधित किया। राहुल ने इस दौरान कहा कि हिंदुस्तान तपस्वियों का देश है, लेकिन यहां तपस्वियों का अपमान हो रहा है। राहुल गांधी ने गरीब, मजदूरों, किसानों, युवाओं और छोटे दुकानदार को असली तपस्वी बताया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार इन तपस्वियों के लिए कुछ नहीं करती। लेकिन एक दो लोग जो मोदी जी की पूजा करते हैं, उन्हें सब मिल जाता है।

राहुल गांधी ने यहां अपने संबोधन की शुरुआत तीन बार जय महाकाल बोलकर की। इसके बाद उन्होंने कहा कि, 'भारत जोड़ो यात्रा को 80 दिन से ज्यादा हो गए हैं। आज हम आपके पवित्र शहर में आए हैं। ये आपका जो शहर है, महाकाल का मंदिर है, शिव जी का मंदिर है। आज हम शिवजी का नाम लेते हैं। हिन्दुस्तान शिवजी को मानता है, तो क्यों मानता है? शिव जी सबसे बड़े तपस्वी थे। भगवान कृष्ण, भगवान राम तपस्वी थे। हिन्दू धर्म के सभी भगवान देवी-देवता बड़े तपस्वी थे।'

राहुल गांधी ने आगे कहा कि, 'हिंदुस्तान तपस्वियों का देश हैं। यहां तपस्वियों की पूजा होती हैं। हम तपस्वियों का आदर करते हैं। तपस्या किसान करता है, मजदूर करता है, हिन्दू धर्म कहता है कि तपस्वियों की पूजा होनी चाहिए, तो तपस्वियों की पूजा क्यों नहीं हो रही। जो तपस्या कर रहा है, सरकार उसके लिए कुछ नहीं करती। यहां आज तपस्वियों का अपमान हो रहा है।'

यह भी पढ़ें: माथे पर चंदन... गले में रुद्राक्ष की माला, बाबा महाकाल की भक्ति में लीन दिखे राहुल गांधी

राहुल गांधी ने आगे कहा कि, 'मैं हर रोज युवाओं से मिलता हूं। उन्होंने भी तपस्या की है। वे मुझसे कहते हैं कि इंजीनियरिंग की डिग्री ली। इसके लिए माता-पिता ने भी तपस्या की। डिग्री मिली तो क्या मिला? इसके जवाब में चुप हो जाते है। उनकी तपस्या का फल मजदूरी है। किसानों को खाद फर्टिलाइजर नहीं मिलता, मिलता है तो बहुत ही महंगा मिलता है। मेहनत का सही दाम नहीं मिलता। पेट्रोल 60 रुपए का था, आज 107 रुपए का है। हर रोज हमारी जेब से पैसा निकलता है। ये पैसा तीन चार पूजा करने वालों के पास जा रहा है। जो मोदी की पूजा करते हैं, उन्हें सबकुछ मिल जाता है।'

उज्जैन में कमलनाथ ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि, 'राहुल जी आप जिस प्रदेश में आए वह बेरोजगारी, भ्रष्टाचार के साथ ही किसानों और महिलाओं के साथ अन्याय में नंबर वन है। भारत की संस्कृति जोड़ने की है, ये शहर उसी संस्कृति का प्रतीक है। भारत जोड़ो यात्रा संविधान की रक्षा के लिए है, हमारे सामाजिक और सांस्कृतिक मूल्यों की रक्षा की यात्रा है। महाकाल मंदिर के लिए हमने साढ़े 3 सौ करोड़ दिए। मोदी जी आए जैसे उनकी योजना है। सौदे से हमारी सरकार गिरा दी। मैं भी सौदा कर सकता था, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया।'