Indore: इंदौर के अस्पताल में चूहों ने शव को कई जगह कुतरा

Corona Updates: इंदौर के निजी यूनीक अस्पताल में 87 साल के बुजुर्ग के शव को चूहों ने कुतरा, गुस्साए परिजनों ने किया हंगामा, कलेक्टर ने मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए

Updated: Sep-21, 2020, 07:54 PM IST

Indore: इंदौर के अस्पताल में चूहों ने शव को कई जगह कुतरा
Photo Courtesy: Bhaskar

इंदौर। शहर में एक बार फिर शव से अमानवीयता का मामला सामने आया है। इंदौर के अन्नपूर्णा इलाका स्थित यूनीक अस्पताल में रविवार को एक कोरोना मरीज की मौत हो गई। 87 वर्षीय बुजुर्ग अस्पताल में तीन दिन पहले भर्ती हुए थे। शव की आंखें कुतरने के मामले में परिजन ने अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप  लगाएं हैं। परिजनों का कहना है कि शव रखने में लापरवाही की गई है।

चूहों ने बुजुर्ग के शव को बुरी तरह कुतर दिया है। बुजुर्ग की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन ने एक लाख रुपए की मांग की और फिर कहीं जाकर परिवार को शव सौंपा गया। अब जिला कलेक्टर मनीष सिंह ने इस मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। बुजुर्ग के शव से अमानवीयता की जांच एडीएम अजय देव शर्मा करेंगे।

दरअसल इंदौर के इतवारिया बाजार इलाका निवासी 87 वर्षीय नवीनचंद जैन को 17 सितंबर को यूनीक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। उन्हे सांस लेने में तकलीफ थी। बुजुर्ग का इलाज कोविड वार्ड में किया जा था। अस्पताल में रविवार देर रात बुजुर्ग की मौत हो गई। जिसकी खबर परिजनों को दे दी गई। अस्पताल प्रबंधन की ओर से कहा गया कि नगर निगम की गाड़ी से उन्हें अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जाएगा।

Click Indore: अंतिम संस्कार के इंतजार में कंकाल बना शव

परिजन जब अस्पताल पहुंचे तब उन्होंने देखा की शव को कई जगह पर चूहों ने कुतर रखा था। गुस्साए परिजन ने शव अस्पताल के बाहर रखकर हंगामा किया। पुलिस के आने पर मामला शांत हुआ। शव कुतरने की शिकायत पर अस्पताल प्रबंधन ने कहा है कि गलती हो गई।

इतना ही नहीं यूनिक अस्पतला प्रबंधन ने बुजुर्ग की मौत के बाद परिजनों को एक लाख का बिल थमा दिया गया। बिल जमा करने के बाद शव दिया गया। शव के चेहरे और पैर में गंभीर घाव नजर आ रहे थे। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल प्रबंधन ने शव को ऐसी जगह रख दिया था जहां चूहों ने कुतर दिया।

Click Indore: 5 दिन तक फ्रीजर में पड़ा रहा नवजात का शव

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह इंदौर के एमवाय अस्पताल में भी शव के साथ लापरवाही के तीन मामले सामने आए थे। अस्पताल प्रबंधन शव को मॉर्चुरी में रख कर भूल गया था। एक शव महीने भर बाद कंकाल में बन गया था। दूसरे मामले में बच्चे के शव को हफ्तेभर तक बॉक्स में रखा गया औऱ पोस्टमार्टम नहीं किया गया। तीसरे मामले में पीथमपुर के एक मरीज के नौ दिन बाद उसके परिजनों को मौत की खबर दी गई।

Click Indore: एमवाय अस्पताल की मर्चुरी में 9 दिन रखा रहा शव, परिजनों को खबर नहीं

इंदौर के एमवाय अस्पताल में शवों के साथ बदसलूकी के मामले में मानव अधिकार आयोग ने सख्ती दिखाई थी और जबाव तलब किया है। कमिश्नर ने जांच के लिए टीम गठित की है। इस बीच निजी अस्पताल में बुजुर्ग के शव को चूहों के कुतरने का मामला सामने आया है। कलेक्टर ने इस मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।