गोहद में ट्रक के नीचे आने से पिता और पुत्र की दर्दनाक मौत, प्रशासन की अनदेखी की वजह से आए दिन होते हैं हादसे

पिछले दस दिनों में चार लोगों की सड़क हादसे में मौत हो गई है, जबकि कई लोग घायल हुए हैं, गोहद थाना में पदस्थ सब इंस्पेक्टर के भाई ने भी हादसे में अपने दोनों पैर गंवा दिए

Publish: Apr 04, 2021, 12:01 PM IST

गोहद में ट्रक के नीचे आने से पिता और पुत्र की दर्दनाक मौत, प्रशासन की अनदेखी की वजह से आए दिन होते हैं हादसे

भोपाल। शनिवार को गोहद में मौ चितौरा मार्ग पर पिता और पुत्र की एक सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई। अपने रिश्तेदार के घर जाते वक्त ट्रक ने पीछे से बाइक सवार पिता और पुत्र को टक्कर मार दी। ट्रक ने नीचे आने से दोनों की ही मौके पर मौत हो गई। हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया। पुलिस ने फिलहाल ट्रक को जब्त कर लिया है। 

शनिवार को आज्ञाराम और विद्याराम बघेल अपने रिश्तेदार के घर धनौली जा रहे थे। उसी दौरान यह हादसा हुआ। दोनों के शव को देखकर स्थानीय लोग दंग रह गए। दोनों की जेब में पड़े आधार कार्ड की मदद से शवों की पहचान हो पाई। शवों की पहचान करने के बाद दोनों पिता पुत्रों के परिजनों की सूचना दी गई। फिलहाल पुलिस ने ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

गोहद में मौ चितौरा मार्ग पर आए दिन सड़क हादसे की खबरें आती रहती हैं। पिछले दस दिनों के भीतर सड़क हादसे में चार लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि कई लोग इस मार्ग पर हादसे का शिकार होकर गंभीर रूप से घायल हो चुके हैं। गोहद थाना क्षेत्र में पदस्थ सब इंस्पेक्टर का भाई भी बीते दिनों हादसे का शिकार हो चुका है। हादसे में सब इंस्पेक्टर के भाई ने अपने दोनों पैर गंवा दिए। 

इस मार्ग पर लगातार हो रहे हादसों की प्रमुख वजह स्थानीय प्रशासन का अनदेखी भरा रवैया है। दरअसल इस मार्ग पर लगातार ओवरलोडेड वाहनों की आवाजाही होती है, जिस वजह से लोग लगातार हादसे का शिकार हो रहे हैं। इस मार्ग पर 15 टन के वाहनों की आवाजाही की अनुमति है। लेकिन प्रशासन की जानकारी में यह बात होने के बावजूद इस मार्ग पर 50 टन की क्षमता से अधिक वाहनों की आवाजाही हो रही है। जिस वजह से यह मार्ग जर्जर हो गया है। सड़क जर्जर होने के कारण आए दिन इस रास्ते पर दुर्घटनाएं होती रहती हैं। 

हालांकि ऐसा नहीं है कि प्रशासन को इस संबंध में शिकायत नहीं की गई है। क्षेत्र के युवा कांग्रेस नेता राजेंद्र सिंह परिहार गोहद के विधायक और कांग्रेस नेता मेवाराम जाटव को इस समस्या से अवगत करा चुके हैं। राजेंद्र परिहार ने मेवाराम जाटव करीब डेढ़ महीने पहले मौ चितौरा मार्ग और गोहद बैसली डैम के पुल की जर्जर अवस्था से अवगत कराया था। राजेंद्र परिहार ने कांग्रेस विधायक को बताया था कि अगर जल्द ही कोई कार्रवाई नहीं की गई तो क्षेत्र में बड़ी संख्या में दुर्घटनाओं का घटना शुरू हो जाएगा। इसके बाद कांग्रेस विधायक ने मामले को त्वरित ही संज्ञान में लेते हुए प्रशासनिक अधिकारियों से इस सिलसिले में बात की। लेकिन प्रशासन ने विधायक द्वारा बारंबार समस्या से अवगत कराने के बावजूद अपने आंखें मूंदे रखीं।

क्षेत्र में प्रशासन के आनाकानी भरे रवैए का कांग्रेस नेता देवाशीष जरारिया ने कड़ा विरोध किया है। देवाशीष ने कहा है कि जल्द ही अगर प्रशासन की नींद नहीं खुली तो उन्हें आंदोलन पर उतरना पड़ेगा। देवाशीष जरारिया ने लगातार हो रही दुर्घटनाओं पर अपना आक्रोश ज़ाहिर करते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा माफिया को संरक्षण प्राप्त है। हर दिन हो रही मौतों के बाद भी न सरकार का दिल पसीजता है न प्रशासन का। प्रशासन को तुरंत ओवरलोडिंग वाहनों पर रोक एवं रोड की क्षमता को बढ़ाना चाहिए। अगर स्थिति ऐसी रही तो हमे मजबूरन बड़ा आंदोलन करना पड़ेगा।