खंडवा में बीजेपी नेताओं के प्रवेश पर ग्रामीणों ने लगाई रोक, सांसद लालवानी बिना प्रचार लौटने पर हुए मजबूर

खंडवा की पंधाना विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले गंधवा गांव का मामला, सिंचाई परियोजना को शुरू करने की मांग कर रहे हैं ग्रामीण, मांग पूरी होने तक किसी भी भाजपा नेता का प्रवेश है निषेध

Updated: Oct 15, 2021, 11:02 AM IST

खंडवा में बीजेपी नेताओं के प्रवेश पर ग्रामीणों ने लगाई रोक, सांसद लालवानी बिना प्रचार लौटने पर हुए मजबूर
Photo Courtesy: Bekhofbulletin.com

खंडवा। मध्य प्रदेश उपचुनावों के मद्देनजर बीजेपी के सामने एक नई मुसीबत खड़ी हो गई है। खंडवा की जनता ने बीजेपी के नेताओं का बहिष्कार करना शुरू कर दिया है। पंधाता विधानसभा सीट के अंतर्गत आने वाले एक गांव में बीजेपी नेताओं के प्रवेश को निषेध कर दिया गया है। जनता की नाराजगी का खामियाजा बीजेपी सांसद शंकर लालवानी को भुगतना पड़ गया। 

खंडवा लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाली पांधाता सीट के प्रभारी शंकर लालवानी जब गुरुवार को प्रचार करने गए, तो जनता ने उन्हें बस स्टैंड पर ही रोक लिया। ग्रामीणों ने सासंद को लंबे अरसे से सिंचाई परियोजना की मांग से अवगत कराया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गांधवा गांव के ग्रामीणों ने शंकर लालवानी को बताया कि यहां पर सिंचाई परियोजना लंबे समय से ठंडे बस्ते में पड़ी हुई है। इसलिए जब तक उनकी यह मांग पूरी नहीं होती, तब तक उनके गांव में बीजेपी के नेताओं का प्रवेश वर्जित है। ग्रामीणों ने यह कहकर शंकर लालवानी को लौटा दिया। बीजेपी नेता भी बिना प्रचार किए इंदौर वापस लौट आए। 

इंदौर वापसी के बाद इस पूरे घटनाक्रम पर शंकर लालवानी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्होंने ग्रामीणों की मांग को सीएम शिवराज सिंह चौहान तक पहुंच दिया। उपचुनाव के बाद सिंचाई परियोजना को मंजूरी दे दी जाएगी। क्षेत्र में अचार संहिता प्रभावी होने के चलते अभी परियोजना को मंजूरी नहीं दी जा सकती। 

बीजेपी नेताओं को लेकर जनता के मन में आक्रोश सामने आने के बाद बीजेपी बैकफुट पर आ गई है। पहले ही ऑनलाइन पोल में खंडवा लोकसभा सीट पर कांग्रेस को बढ़त मिलती हुई दिख रही है। ऐसे में जनता की कड़ी नाराजगी ने बीजेपी की चिंता को बढ़ा दिया है।