इंदौर-खंडवा रोड़ पर तेज रफ्तार ट्रक और कार की भिड़ंत, दो पुलिसकर्मियों सहित तीन लोगों की मौत

15वीं बटालियन इंदौर में पदस्थ दो आरक्षक कुलदीप व धर्मेंद्र और तीसरा व्यक्ति विनोद देर रात तीनों नई कार से खंडवा की ओर जा रहे थे, इसी दौरान कनाड गांव के पास सामने से अंध गति से आ रही आयशर ट्रक चालक ने लापरवाही से वाहन चलकर कार को टक्कर मार दी, इससे तीनों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

Updated: Jun 14, 2022, 02:12 PM IST

इंदौर-खंडवा रोड़ पर तेज रफ्तार ट्रक और कार की भिड़ंत, दो पुलिसकर्मियों सहित तीन लोगों की मौत
Photo Courtesy: lalluram

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में एक भीषण सड़क हादसे में दो पुलिसकर्मियों सहित तीन लोगों की दुर्घटनास्थल पर मौत हो गई। ये सड़क हादसा इंदौर-खंडवा हाईवे पर सिरमोल थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम कनाड और सिमरोल के बीच भेरू घाट पर हुआ। सिमरोल पुलिस ने मर्ग कायम कर शवों को पोस्टमार्टम के लिए इंदौर जिला अस्पताल भेज दिया है। तीनों मृतक इंदौर से खंडवा जा रहे थे। तभी एक तेज रफ्तार आयशर ट्रक ने कार को टक्कर मार दी, टक्कर इतनी भीषण थी कि कार के अगले हिस्से के परखच्चे उड़ गए। 

सिमरोल थाना प्रभारी रामनरेश भदौरिया ने बताया कि घटना सोमवार देर रात डेढ़ बजे की है। 15वीं बटालियन इंदौर में पदस्थ दो आरक्षक कुलदीप व धर्मेंद्र और तीसरा व्यक्ति विनोद देर रात तीनों नई कार से खंडवा की ओर जा रहे थे। इसी दौरान कनाड गांव के पास सामने से अंध गति से आ रही आयशर ट्रक चालक ने लापरवाही से वाहन चलकर कार को टक्कर मार दी। इससे तीनों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: MP: बाल संरक्षण आयोग द्वारा मदरसों की जाँच में खुलासा, भोपाल में पढ़ रहे बिहार के 24 बच्चों की एक ही जन्मतिथि, एक भी छात्र स्थानीय नहीं

इस हादसे पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दुख व्यक्त किया है। सीएम ने ट्वीट किया कि इंदौर के सिमरोल थाना क्षेत्र में हुई सड़क दुर्घटना में अनमोल जिंदगियों के असमय निधन का अत्यंत दुखद समाचार प्राप्त हुआ। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को अपने श्री चरणों में स्थान तथा परिजनों को यह गहन दुःख सहन करने की शक्ति देने और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।

इस दुर्घटना में आरक्षक कुलदीप पुत्र राधेश्याम बिरला निवासी इंदौर, धर्मेंद्र सिंह पुत्र महेश सिंह निवासी बालाघाट और उनके मित्र विनोद पुत्र भीकाराम निवासी देवास की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिसकर्मियों की पहचान उनके पहचान पत्र के माध्यम से हो सकी।