Unlock 4.0: 12 सितंबर से 80 विशेष ट्रेनों का सफर होगा शुरू

Corona Effect: 10 सितंबर से करा सकते हैं बुकिंग, राज्यों की मांग के अनुसार परीक्षा और दूसरे उद्देश्यों के लिए चलाई जाएंगी ट्रेनें

Updated: Sep 05, 2020 10:25 PM IST

Unlock 4.0: 12 सितंबर से 80 विशेष ट्रेनों का सफर होगा शुरू

नई दिल्ली। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी के यादव ने बताया कि 12 सितंबर से 80 नई विशेष ट्रेने चलेंगी। इसके लिए आरक्षण 10 सितंबर से शुरू होगा। उन्होंने कहा कि ट्रेनों के संबंध में नोटिफिकेशन बाद में जारी की जाएगी। रेलवे की तरफ से यह घोषणा तब हुई है, जब देश में लगातार कोरोना वायरस के रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं। भारतीय रेलवे के इस कदम को अनलॉक प्रक्रिया के चौथे चरण का हिस्सा माना जा रहा है।  

उन्होंने कहा कि 80 नई विशेष ट्रेनें या 40 जोड़ी ट्रेनें 12 सितंबर से शुरू होंगी । जिसके लिए आरक्षण की प्रक्रिया 10 सितंबर से आरंभ होगी। ये ट्रेनें पहले से ही चल रही 230 ट्रेनों के अतिरिक्त होंगी। इसमें मध्य प्रदेश से 4 रेलगाड़ियों को चलाने की मंजूरी मिली है। जिनमें जबलपुर- इंदौर ओवरनाइट एक्सप्रेस, जबलपुर- रीवा इंटरसिटी एक्सप्रेस, जबलपुर- सिंगरौली इंटरसिटी और हबीबगंज- रीवा रेवांचल एक्सप्रेस हैं। 

इसके अलावा, दिल्ली से गोरखपुर जाने वाली हमसफर एक्सप्रेस, दिल्ली से भागलपुर जाने वाली विक्रमशिला एक्सप्रेस, ग्वालियर से मडवाडीह बनारस जाने वाली बुंदेलखंड एक्सप्रेस, मैसूर से सोलापुर जाने वाली गोल गुंबज एक्सप्रेस, कोटा से देहरादून जाने वाली नंदा देवी एक्सप्रेस भी 12 सितंबर से चलने वाली ट्रेनों की सूची में शामिल हैं।  

12 सितंबर से चलने वाली ट्रेनों की सूची

एमपी से चलने या गुजरने वाली ट्रेन 

00281 जबलपुर से अजमेर - दयोदया एक्सप्रेस - प्रतिदिन

01107 ग्वालियर से मांडूडीह - बुंदेलखंड एक्सप्रेस - प्रतिदिन

01841 खजुराहो से कुरुक्षेत्र - एक्सप्रेस - प्रतिदिन

02415 इंदौर से नईदिल्ली - एक्सप्रेस - प्रतिदिन

02911 इंदौर से हावडा - एक्सप्रेस - मंगल,गुरू,शनि

02669 चेन्नई से छपरा - एक्सप्रेस - सोम,शनि

02592 गोरखपुर से यशवंतपुर एक्सप्रेस - सोम,शनि

Click: SC: दिल्ली में रेलवे ट्रैक के पास बनी 48 हजार झुग्गियों को हटाने का आदेश

हाल के दिनों में नीट और जेईई के परीक्षार्थियों को ट्रांसपोर्ट के साधन उपलब्ध ना हो पाने के कारण खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। इस वजह से कई छात्र परीक्षा भी नहीं दे पाए थे। आने वाले समय में भी छात्रों को परीक्षाएं देनी हैं। ऐसे में विशेष ट्रेनों के चलने से उन्हें काफी सहूलियत होगी। साथ ही घाटे में चल रही रेलवे के राजस्व में भी बढ़ोतरी होगी।