भारत जोड़ो यात्रा: दिग्विजय सिंह की अध्यक्षता में हुई सेंट्रल प्लानिंग ग्रुप की पहली बैठक, राहुल गांधी भी रहे मौजूद

सोनिया गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के लिए किया है सेंट्रल प्लानिंग ग्रुप का गठन, रविवार को राजधानी दिल्ली में हुई ग्रुप की पहली बैठक, राहुल गांधी, शशि थरूर समेत तमाम दिग्गज रहे मौजूद

Updated: Jun 05, 2022, 06:28 PM IST

भारत जोड़ो यात्रा: दिग्विजय सिंह की अध्यक्षता में हुई सेंट्रल प्लानिंग ग्रुप की पहली बैठक, राहुल गांधी भी रहे मौजूद

नई दिल्ली। उदयपुर चिंतन शिविर के फैसलों पर कांग्रेस ने गंभीरता से काम करना शुरू कर दिया है। कांग्रेस की ओर से प्रस्तावित "भारत जोड़ो यात्रा" के लिए आज सेंट्रल प्लानिंग ग्रुप की पहली बैठक हुई। वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में राहुल गांधी भी मौजूद रहे। सिंह ने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है।

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने रविवार को एक ट्वीट में लिखा कि, 'भारत जोड़ी यात्रा के लिए सेंट्रल प्लानिंग ग्रुप की आज पहली बैठक संपन्न हुई। कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यह यात्रा 2 अक्टूबर को शुरू होगी और इसकी योजना सही तरीके से शुरू हो गई है। बैठक में राहुल गांधी भी शामिल हुए।'

सिंह ने इसके साथ ही एक तस्वीर भी साझा की है। तस्वीर में देखा जा सकता है कि इस बैठक में वरिष्ठ नेता डॉ शशि थरूर, जयराम रमेश, जोठी मानी, सचिन पायलट, जीतू पटवारी और एनएसयूआई चीफ नीरज कुंदन भी शामिल हैं।

बता दें कि 2 अक्टूबर को कांग्रेस नेता राहुल गांधी देशवासियों और आमलोगों साथ संबंध स्थापित करने के लिए कश्मीर से कन्याकुमारी तक 'भारत जोड़ो यात्रा' नामक एक राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू करेंगे। उदयपुर के चिंतन शिविर के समापन पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 'भारत जोड़ो' के नारे के साथ सांप्रदायिक राजनीति का मुकाबला करने के लिए इस जन अभियान की घोषणा की थी।

यह भी पढ़ें: बीजेपी में श्रीमंत को कैटरिंग का काम मिला है, नेता प्रतिपक्ष डॉ गोविंद सिंह ने सिंधिया पर बोला हमला

रिपोर्ट्स के मुताबिक पांच महीने की यह यात्रा करीब 3,500 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए एक दर्जन से अधिक राज्यों से होकर गुजरने वाली है। यह यात्रा कन्याकुमारी से शुरू होगी और कश्मीर में समाप्त होगी। सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी सहित कांग्रेस के सभी शीर्ष नेता 'भारत जोड़ो यात्रा' में भाग लेकर पदयात्रा, रैलियां और जनसभाएं करेंगे। इस जन अभियान में समान विचारधारा वाले दल, सदस्य और नागरिक समाज के संगठन भी शामिल होंगे।