कोरोना खत्म हो गया है कह कर BJP विधायक ने मास्क लगाना छोड़ा था, वायरस ने ले ली जान

उत्तरप्रदेश के बरेली अंतर्गत नवाबगंज क्षेत्र के विधायक केसर सिंह गंगवार की हुई कोरोना से मौत, मास्क पहनने को लेकर विधानसभा में कहा था कोरोना खत्म हो गया अब क्या मास्क लगाना

Updated: Apr 30, 2021, 07:36 PM IST

कोरोना खत्म हो गया है कह कर BJP विधायक ने मास्क लगाना छोड़ा था, वायरस ने ले ली जान
Photo Courtesy: The Wire

बरेली। कोरोना को हल्के में लेना या मास्क पहनने को लेकर लापरवाही बरतना किस कदर जानलेवा साबित हो सकता है इस बात का सबक आप उत्तरप्रदेश के बीजेपी विधायक की मृत्यु से ले सकते हैं। भारतीय जनता पार्टी से बरेली के नवाबगंज विधानसभा क्षेत्र के विधायक केसर सिंह गंगवार ने बीते 28 अप्रैल को कोरोना से लड़ते हुए दम तोड़ दिया। गंगवार की मौत के बाद एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें वे यह कहते देखे जा सकते हैं कि कोरोना खत्म हो गया है।

वायरल वीडियो उत्तरप्रदेश विधानसभा के भीतर का है। विधानसभा परिसर में बीजेपी विधायक गंगवार बिना मास्क पहने अंदर आते हैं। वहां मौजूद एक रिपोर्टर उनसे मास्क को लेकर सवाल करता है कि आपने मास्क क्यों नहीं लगाया है। इसके जवाब में बीजेपी नेता कहते हैं कि, 'मास्क... कोविड खत्म हो गया... अब कहां रखा है कोविड यार? अब कहां रखा है कोविड?'

यह भी पढ़ें: सोशल मीडिया पर मदद के लिए गुहार लगाना गलत नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को चेताया

उत्तरप्रदेश में कोरोना के दूसरी लहर में यह तीसरे विधायक की मौत हुई है। बीजेपी के लोकप्रिय नेता की मौत वाकई दुःखद और दिल दहलाने वाली है। लेकिन साथ ही यह एक चेतावनी भी है उन लोगों के लिए जो अब भी कोरोना को हल्के में ले रहे हैं या फिर मास्क पहनने के लिए जब कहा जाता है तो उसे मजाकिया लहजे में टाल देते हैं।

अंतिम समय में आईसीयू के लिए तरस गए थे गंगवार

गंगवार की इस दुःखद मौत से उनके चाहने वालों और परिजनों को अपूरणीय क्षति हुई है। लेकिन वे जाते-जाते अपनी ही सरकार के लिए एक बड़ा सवाल भी छोड़ गए हैं। दरअसल, केसर सिंह को 24 घंटे तक आईसीयू बेड के लिए तरसना पड़ा था। बताया जा रहा है कि 10 अप्रैल को उनकी हालत अचानक बिगड़ने लगी थी जिसके बाद उन्हें बरेली स्थित राम मूर्ति मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। यहीं पर उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। 

केसर सिंह ने 18 अप्रैल को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को पत्र लिखकर मैक्स अस्पताल में अपने लिए एक आईसीयू बेड की व्यवस्था करने की गुहार लगाई थी। विडंबना यह है कि इसके बावजूद सरकार उन्हें मैक्स में जगह नहीं दिला पाई। मजबूरन थक-हार कर उनके परिजनों ने उन्हें नोएडा स्थित यथार्थ हॉस्पिटल में एडमिट कराया। विधायक के बेटे विशाल गंगवार ने अपने पिता की मौत पर उत्तरप्रदेश की योगी आदित्यनाथ और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं।

यह भी पढ़ें: मर गई मानवता, भोपाल के हमीदिया अस्पताल में शो-बाज़ी के लिए मरीजों की जान से खिलवाड़

विशाल ने आरोप लगाया कि, 'उत्तरप्रदेश की योगी सरकार अपने विधायकों तक को उचित इलाज नहीं मुहैया करवा पा रही है।' उन्होंने बताया कि कई बार कॉल करने के बावजूद मुख्यमंत्री कार्यालय में किसी से फोन नहीं उठाया। गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में अबतक कोरोना से बीजेपी के 3 विधायकों और 2 मंत्रियों की मृत्यु हुई है। पिछले साल योगी सरकार में मंत्री चेतन चौहान और कमला रानी वरुण की मौत हुई थी। वहीं दूसरी लहर में पश्चिमी लखनऊ के विधायक सुरेश श्रीवास्तव और औरैया के विधायक रमेश दिवाकर की मौत हुई है।