सुब्रहमण्यम स्वामी का अनूठा ट्वीट, सीता के नेपाल और रावण की लंका से भी महंगी राम के भारत में पेट्रोल

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपनी ही सरकार को अपने अंदाज में घेरा, पेट्रोल की कीमतों को लेकर कहा, राम के भारत की तुलना में रावण की लंका और सीता के नेपाल में तेल सस्ता

Updated: Feb 02, 2021, 05:10 PM IST

सुब्रहमण्यम स्वामी का अनूठा ट्वीट, सीता के नेपाल और रावण की लंका से भी महंगी राम के भारत में पेट्रोल
Photo Courtesy: twitter

नई दिल्ली। देश में लगातार बढ़ रहे पेट्रोल की कीमतों को लेकर केंद्र की मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर है। लेकिन अब खुद बीजेपी नेता भी पेट्रोल की बढ़ी कीमतों को लेकर केंद्र सरकार को घेरना शुरू कर दिए हैं। बीजेपी के कद्दावर नेता व राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने मोदी सरकार पर अनोखा तंज कसा है। उन्होंने बताया है कि रावण की लंका से भी ज्यादा राम के भारत में पेट्रोल के दाम वसूले जा रहे हैं।

सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने चित-परिचित अंदाज में आज एक तस्वीर शेयर किया है। इसमें लिखा गया है कि, 'रावण की लंका में पेट्रोल 51 रुपये प्रति लीटर है। सीता जी के नेपाल में पेट्रोल 53 रुपये प्रति लीटर है और श्रीराम के भारत में पेट्रोल 93 रुपये प्रति लीटर है।'

सुब्रमण्यम स्वामी का यह पोस्ट सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है। माना जा रहा है कि स्वामी ने इस ट्वीट के माध्यम से राम के नाम की राजनीति करने वाली सरकार को आईना दिखाने का प्रयास किया है। स्वामी के इस ट्वीट को लेकर बीजेपी की ओर से फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। हालांकि, सोशल मीडिया यूजर्स इसे काफी पसंद कर रहे हैं। वहीं, कुछ लोग स्वामी को भारत का विभीषण करार दे उन्हें ट्रॉल करने से भी नहीं चूक रहे हैं।

 स्वामी का यह ट्वीट ऐसे समय में आया है जब कल ही देश की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में आम बजट पेश की हैं। इस दौरान वित्तमंत्री ने अपने बजट भाषण में पेट्रोल पर प्रति लीटर 2.5 रुपये और डीजल पर 4 रुपये प्रति लीटर सेस (उपकर) लगाने की घोषणा की थी। इसके बाद से आम लोगों के मन मे पेट्रोल-डीजल के फिर से दाम बढ़ने की चिंता है।हालांकि, सरकार का दावा है कि इससे आम लोगों को कोई असर नहीं होगा। लेकिन ऐसा प्रतीत हो रहा है बीजेपी के ही नेता और देश के जानेमाने अर्थशास्त्री स्वामी को सरकार की यह तर्क पल्ले नहीं पड़ रही है।

गौरतलब है कि भारत उन चुनिंदा देशों में शामिल है, जहां की सरकार अपनी जनता से पेट्रोल-डीजल के सबसे ज्यादा दाम वसूलती है। फिलहाल देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 86 रुपए को पार कर गई है वहीं डीजल भी 76 रुपए प्रतिलीटर से ज्यादा महंगी बिक रही है। वहीं अन्य जगहों की बात करें तो मुंबई में पेट्रोल 92 रुपए से ज्यादा तो मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 94 रुपए के रिकॉर्ड स्तर पर बिक रही है। इतना ही नहीं कई जगह तो पेट्रोल के दाम 100 रुपए तक पहुंच गए हैं।

 और पढ़ें: केंद्र सरकार के बजट में बीजेपी का चुनावी दांव, जहां चुनाव वहीं खर्चा

ओरिजनल कीमतों से 3 गुना महंगा बिकता है पेट्रोल-डीजल

पेट्रोल और डीजल के जो ओरिजनल रेट होते हैं उससे वह तीन गुना महंगा बेचा जाता है। दरअसल, पहले कच्चा तेल रिफाइनरी में जाता है, जहां से पेट्रोल और डीजल निकाला जाता है। इसके बाद यह तेल कंपनियों के पास जाता है। तेल कंपनियां अपना मुनाफा तय कर इसे पेट्रोल पंप्स तक पहुंचाती है। पेट्रोल पंप पर आने के बाद उसमें डीलर कमीशन जोड़ा जाता है। यह कमीशन भी तेल कंपनियां ही तय करती हैं। उसके बाद केंद्र और राज्य सरकारें इसपर टैक्स जोड़ती हैं। सारे कमीशन और टैक्स जोड़ने के बाद जो भाव आता है, वो आमलोगों को चुकाना पड़ता है। वहीं विदेशी मुद्रा दरों के साथ अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमतें क्या हैं, इस आधार पर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है।