18 साल से ऊपर के सभी वयस्कों को लगेगा वैक्सीन का बूस्टर डोज, 10 अप्रैल से प्राइवेट सेंटर्स पर शुरुआत

स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को जानकारी दी कि कोरोना वैक्सीन के बूस्टर डोज रविवार से लगने शुरू हो जाएंगे, 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी व्यक्ति निजी टीकाकरण केंद्रों पर 10 अप्रैल से एहतियाती खुराक लगवा सकेंगे

Updated: Apr 08, 2022, 04:46 PM IST

18 साल से ऊपर के सभी वयस्कों को लगेगा वैक्सीन का बूस्टर डोज, 10 अप्रैल से प्राइवेट सेंटर्स पर शुरुआत

नई दिल्ली। भारत में अब 18 साल से अधिक उम्र के सभी वयस्क बूस्टर डोज ले सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि रविवार यानी 10 अप्रैल, 2022 से निजी टीकाकरण केंद्रों पर एहतियाती डोज दी जाएगी। वे सभी जो 18 वर्ष से अधिक आयु के हैं और दूसरी खुराक लेने के बाद 9 महीने पूरे कर चुके हैं, एहतियाती खुराक के लिए पात्र होंगे। यह सुविधा फिलहाल सिर्फ निजी टीकाकरण केंद्रों में उपलब्ध होगी।

फिलहाल देश में स्वास्थ्य कर्मचारियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को ही तीसरी डोज लगाई जा रही है। हालांकि, पहले सिर्फ 60 साल से अधिक उम्र के गंभीर रोग से ग्रस्त लोगों को ही सतर्कता डोज लगाई जा रही थी। बाद में गंभीर रोग की शर्त को इसमें से हटा लिया गया था। इसके साथ ही फिर 12 से 14 साल के बच्चों को भी वैक्सिनेशन अभियान में शामिल किया जा चुका है, उन्हें भी वैक्सीन लगाई जा रही है।

यह भी पढ़ें: एमपी के बाद ओडिशा के पत्रकार पर ज़ुल्म का वीडियो वायरल, राज्य पुलिस ने पैरों में लगाई बेड़ियां

सरकार की ओर से कहा गया है कि पहली और दूसरी खुराक के लिए सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर चल रहे मुफ्त टीकाकरण कार्यक्रम के साथ-साथ हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 प्लस आबादी के लिए एहतियाती खुराक देने का कार्यक्रम भी जारी रहेगा और इसमें और तेजी लाई जाएगी।

देश में अभी 15 प्लस उम्र वाली आबादी के करीब 96% लोगों को कम से कम एक COVID-19 वैक्सीन की एक खुराक मिल चुकी है, जबकि 15+ आबादी में से लगभग 83% ने टीके की दोनों खुराक प्राप्त की हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल से ज्यादा उम्र वाली जनसंख्या समूह को 2.4 करोड़ से अधिक एहतियाती खुराक दी जा चुकी हैं। 12 से 14 वर्ष आयु वर्ग के 45% लोगों ने भी पहली खुराक प्राप्त की है।