चक्रवाती तूफान गुलाब ने बढ़ाई चिंता, ओडिशा के तटीय इलाकों से निकाले गए लोग, NDRF की टीमें तैनात

ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटों से आज टकराएगा चक्रवाती तूफान गुलाब, ओडिशा के तटीय इलाकों में ऑरेंज अलर्ट जारी, मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह

Updated: Sep 26, 2021, 11:13 AM IST

चक्रवाती तूफान गुलाब ने बढ़ाई चिंता, ओडिशा के तटीय इलाकों से निकाले गए लोग, NDRF की टीमें तैनात

नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में बना लो प्रेशर बेल्ट अब चक्रवात गुलाब के रूप में तब्दील हो गया है। शनिवार को बने इस चक्रवाती तूफान ने मौसम वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ा दी है। पाकिस्तान ने इसका नाम गुलाब रखा है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक ये चक्रवाती तूफान आज शाम भारतीय तटों से टकराएगा। इस तूफान का सबसे ज्यादा प्रभाव ओडिशा और आंध्रप्रदेश में देखने को मिल सकता है।

मौसम विभाग के मुताबिक ओडिशा के गोपालपुर और आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम तटों के बीच से चक्रवात के गुजरने की आशंका है। बताया जा रहा है कि इस दौरान हवा की रफ्तार 85 किलोमीटर प्रति घंटे रह सकती है। तूफान के खतरों को देखते हुए ओडिशा के निचले इलाकों से लोगों को सुरक्षित पहुंचाने का आदेश दिया गया है। साथ ही मछुआरों को समुद्र में न जाने की हिदायत दी गई है।

यह भी पढ़ें: देश में नफरत का जहर फैलाया जा रहा है, असम हिंसा को लेकर बरसे राहुल गांधी

सरकार ने श्रीकाकुलम और विशाखापटनम में एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया है। श्रीकाकुलम में एनडीआरएफ की दो टीमें लगी हुई है। श्रीकाकुलम जिले के निचले इलाकों से लगभग 86,000 परिवारों को राहत शिविरों में स्थानांतरित की जा रही है। उधर विशाखापत्तनम में एक टीम को तैनात किया गया है। यहां एसडीआरएफ की एक टीम को भी आपातकालीन स्थिति के लिए तैयार रखा गया है।

मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान के 29 सितंबर को बंगाल तट पर पहुंचने के आसार हैं। बता दें कि हाल के दिनों में अबतक दो चक्रवाती तूफान बने हैं। पहला चक्रवात ताउते अरब सागर में बना था, जबकि दूसरा चक्रवात यास मई महीने में बंगाल की खाड़ी में बना था। इन दोनों तूफानों ने भयंकर कहर बरपाया था।