केजरीवाल का बड़ा फैसला- दिल्ली में 72 लाख लोगों को मिलेगा मुफ्त राशन, ऑटो चालकों को 5 हजार की मदद

दिल्ली में करीब 72 लाख राशन कार्ड धारकों को 2 महीने तक मिलेगा मुफ्त राशन, लॉकडाउन के दौरान ऑटो-टैक्सी चालकों को दी जाएगी 5-5 हजार रुपए की आर्थिक सहायता

Updated: May 04, 2021, 02:26 PM IST

केजरीवाल का बड़ा फैसला- दिल्ली में 72 लाख लोगों को मिलेगा मुफ्त राशन, ऑटो चालकों को 5 हजार की मदद
Photo Courtesy: India TV

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों के लिए बड़ा ऐलान किया है। दिल्ली सीएम ने राजधानी में रहने वाले 72 लाख राशन कार्ड धारकों को दो महीने के लिए मुफ्त राशन देने का ऐलान किया है। इसके अलावा ऑटो, टैक्सी व रिक्शा चलाने वालों को 5 हजार रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा भी की है। लॉकडाउन के दौरान आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों के लिए केजरीवाल के इस फैसले को अहम माना जा रहा है।

दिल्ली सीएम ने कहा है कि, 'दो महीनों का राशन मुफ्त देने के फैसले का यह मतलब नहीं है कि राजधानी में अगले दो महीनों तक लॉकडाउन रहेगा। दिल्ली सरकार का प्रयास यह है कि आर्थिक तंगी के दौर में लोगों को थोड़ी राहत दी जाए।' डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सीएम केजरीवाल ने बताया कि राजधानी में जितने भी ऑटो-टैक्सी ड्राइवर हैं उनके बैंक अकाउंट में सीधे 5-5 हजार रुपए ट्रांसफर किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि पिछली बार भी दिल्ली सरकार ने ऐसे 1 लाख 56 हजार लोगों की मदद की थी। इस बार भी उन सभी लोगों को आर्थिक मदद दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: अप्रैल में 75 लाख लोगों ने रोजगार से धोया हाथ, बेरोजगारी दर चार महीने के सबसे उच्च स्तर पर

लॉकडाउन को लेकर दिल्ली सीएम ने कहा कि, 'कोरोना वायरस से निपटने के लिए राज्य सरकार ने दिल्ली में लॉकडाउन लगाया है। यह इसलिए लगाया गया है ताकि कोरोना का चेन टूट सके और संक्रमण के मामलों में कमी आए। लेकिन यह लॉकडाउन रोज कमाकर खाने वाले लोगों के लिए संकट पैदा कर देता है। पिछले हफ्ते हमने फैसला लिया था कि सभी मजदूरों के खाते में 5 हजार रुपए डाले जाएंगे। हमने सभी मजदूरों को 5-5 हजार रुपए ट्रांसफर कर दिया है।

सीएम केजरीवाल ने राजनीतिक दलों से अपील की है कि इस संकट की घड़ी में सभी लोग एकजुट होकर जरूरतमंदों की मदद करें। केजरीवाल ने कहा, 'इस वक़्त कोई राजनीति नहीं करनी है। चाहे कोई किसी भी धर्म या जाति का हो, अमीर हो या गरीब हो सब एक दूसरे की मदद करें। किसी को बेड नहीं मिल रहा हो तो उसे बेड दिलवाने में मदद करें, किसी के घर में कोई बीमार हो तो उन्हें भोजन पहुंचाएं, अपने आसपास के गरीब लोगों की आर्थिक सहायता करें। यदि हमसब साथ मिलकर कोरोना से लड़ेंगे तो जल्द ही इस वायरस पर जीत हासिल करेंगे।'

यह भी पढ़ें: ट्विटर से हमेशा के लिए सस्पेंड हुईं कंगना रनौत, पश्चिम बंगाल को लेकर किए थे कई विवादित ट्वीट

गौरतलब है कि राष्ट्रीय राजधानी में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस ने 448 लोगों की जानें ली है। इस दौरान कोरोना के 18 हजार 43 नए मामले दर्ज किए गए हैं। 15 अप्रैल के बाद से यह सबसे कम है। हालांकि, यह लगातार तीसरा दिन है जब राजधानी में 400 से ज्यादा लोगों की कोरोना से मौत हुई है। कोरोना संक्रमण दर भी लगातार दूसरे दिन 30 फीसदी से नीचे रहा है। फिलहाल यह 29.56 प्रतिशत है।