BJP नेताओं ने लोगों को पटाखे जलाने के लिए उकसाया, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री का गंभीर आरोप

दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने आरोप लगाया है कि बीजेपी नेताओं ने जनता को आतिशबाजी के लिए उकसाया, ताकि दिल्ली में प्रदूषण फैलाकर सरकार को बदनाम किया जाए

Updated: Nov 05, 2021, 06:08 PM IST

BJP नेताओं ने लोगों को पटाखे जलाने के लिए उकसाया, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री का गंभीर आरोप
Photo Courtesy: India.com

नई दिल्ली। दिवाली की अगली सुबह देश की राजधानी दिल्ली और उसके आसपास का इलाका धुएं के गुबार से ढंका दिखा। दिल्ली-NCR में प्रदूषण बेहद खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है। इसी बीच पर्यावरण मंत्री ने बीजेपी नेताओं पर गंभीर आरोप लगाया है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि बीजेपी नेताओं ने लोगों को पटाखे जलाने के लिए उकसाया।

दिल्ली के पर्यवरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में सभी लोगों ने पटाखे नहीं जलाए। यहां कुछ लोगों ने खास मकसद से पटाखे जलाए। राजधानी में हुई आतिशबाजी के पीछे बीजेपी का हाथ है। बीजेपी नेताओं ने जानबूझकर जनता को उकसाया कि त्यौहार है बम जलाने से कुछ नहीं होगा। ताकि दिल्ली में प्रदूषण फैलाकर सरकार को बदनाम किया जाए। जबकि वैज्ञानिक भी कह रहे हैं कि पटाखों से प्रदूषण होता है। दो दिन पहले जो हवा की गुणवत्ता थी आज वो नहीं है। उन्होंने दिल्ली के आसपास पराली जलाए जाने की करीब 3500 घटनाओं को भी जिम्मेदार बताया।

यह भी पढ़ें: दिवाली पर जहरीली हुई दिल्ली-NCR की हवा, धुएं के गुबार से ढंका आसमान

बता दें कि प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने पटाखों की बिक्री एवं इस्तेमाल पर रोक लगाई थी। हालांकि, पटाखों पर बैन बेमानी साबित हुआ। दिल्ली में लोग दिवाली की रात नॉन स्टॉप आतिशबाजी करते रहे। बड़े पैमाने पर आतिशबाजी का नतीजा ये रहा कि दीवाली के अगले दिन यानी शुक्रवार सुबह राजधानी की वायु गुणवत्ता 'खतरनाक' स्थिति में पहुंच गई। आसमान पर धुंध की मोटी चादर छाई नजर आई। शुक्रवार सुबह जनपथ में वायु गुणवत्ता (Air Quality Index) का स्तर 655.07 पर रहा। हवा में जहरीली धुएं की वजह से कई लोगों को आंखों में पानी आने और गले में खारिश की तकलीफ है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक दिल्‍ली के पूसा, आनंद विहार, मंदिर मार्ग, मेजर ध्‍यानचंद स्‍टेडियम, ओखला समेत कई इलाकों में AQI 999 दर्ज किया गया, जो कि उच्‍चतम है, क्योंकि इसके बाद के स्तर पर मापने का कोई तरीका नहीं है। दिल्‍ली से सटे यूपी के गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गुरुग्राम समेत अन्‍य इलाकों में भी हवा जहरीली हो गई है।