पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में बजा चुनावी बिगुल, त्रिपुरा में 16 तो मेघालय और नागालैंड में 27 फरवरी को होगी वोटिंग, 2 मार्च को आएंगे नतीजे

नागालैंड, मेघालय और त्रिपुरा में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान के साथ आचारसंहिता लागू, नागालैंड में 12 मार्च, मेघालय में 15 मार्च और त्रिपुरा में 22 मार्च को विधानसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है।

Updated: Jan 18, 2023, 06:07 PM IST

पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में बजा चुनावी बिगुल, त्रिपुरा में 16 तो मेघालय और नागालैंड में 27 फरवरी को होगी वोटिंग, 2 मार्च को आएंगे नतीजे

नई दिल्ली। निर्वाचन आयोग ने आज नागालैंड, मेघालय और त्रिपुरा की विधानसभाओं के आम चुनावों की घोषणा कर दी है। चीफ इलेक्शन कमिश्नर राजीव कुमार ने बताया कि त्रिपुरा में 16 फरवरी को मतदान होगा। जबकि मेघालय और नागालैंड में 27 फरवरी को वोट डाले जाएंगे। जबकि तीनों राज्यों के नतीजे 2 मार्च को सामने आएंगे।

बुधवार को चुनाव से संबंधित प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि तीनों राज्यों में महिला वोटरों की भागीदारी ज्यादा है और यहां चुनावी हिंसा भी ज्यादा नहीं होती। लोकतंत्र में हिंसा का कोई स्थान नहीं है और हम इन राज्यों में भी हिंसा को रोकने के लिए और निष्पक्ष चुनाव के लिए प्रतिबद्ध हैं। 

यह भी पढ़ें: जो विकास यात्रा हमने 1970 में शुरू की थी उसे कायम रखें, राघौगढ़ के मतदाताओं से दिग्विजय सिंह की भावनात्मक अपील

चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि नागालैंड, त्रिपुरा और मेघालय में 62.8 लाख वोटर हैं, जो मतदान करने के योग्य हैं। इनमें से करीब 32 लाख महिला वोटर हैं। चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही इन राज्यों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।

मेघालय की मौजूदा स्थिति

मेघालय में अभी एनपीपी (नेशनल पीपुल्स पार्टी‌‌) की सरकार है। कोनराड संगमा मुख्यमंत्री हैं। त्रिपुरा में कुल सीटें 60 हैं और बहुमत का आंकड़ा 31 है। मेघालय में साल 2018 में NPP ने भाजपा और अन्य दलों के साथ मिलकर 34 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई थी। NPP के कॉनराड संगमा राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। NPP को राज्य में 19 और भाजपा को 2 विधानसभा सीटें नसीब हुई थी।

त्रिपुरा की मौजूदा स्थिति

त्रिपुरा में भाजपा की सरकार है। राज्य की कमान माणिक साहा के हाथों में हैं। त्रिपुरा में कुल सीटें 60 हैं और बहुमत का आंकड़ा 31 है। त्रिपुरा में साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने वामदलों के लंबे शासन को खत्म कर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी। पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को 60 में से 36 सीटें मिली थीं जबकि सीपीआईएम महज 16 सीटों पर सीमट गई थी। राज्य में IPFT को 8 सीटें मिली थीं। इस साल होने वाले चुनाव में वामदल और कांग्रेस के गठबंधन कर चुनाव लड़ने की संभावना है।

नागालैंड की मौजूदा स्थिति

नगालैंड में नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी की सरकार है और नेफियू रियो मुख्यमंत्री हैं। नागालैंड में कुल सीटें 60 और बहुमत का आंकड़ा 31 है। यहां साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा के समर्थन वाली NDPP ने सरकार बनाई। राज्य में हुए चुनाव में NPF को 26 सीटें मिली थीं जबकि एनडीपी को 18 और भाजपा को 12 सीटें मिलीं। NPP ने दो सीटों पर जीत दर्ज की।

बता दें कि 2024 में लोकसभा चुनाव के पहले पूर्वोत्तर के राज्यों त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड के अलावा कुल 9 राज्यों में चुनाव होंगे। नॉर्थ ईस्ट के बाद अप्रैल या मई में कर्नाटक में भी विधानसभा चुनाव कराए जाने की संभावना है। इसके अलावा 40 सदस्यों वाली मिजोरम विधानसभा का कार्यकाल भी इसी साल 17 दिसंबर को खत्म हो रहा है। जबकि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना में भी साल के अंत में चुनाव होने हैं।