लोकतंत्र को हैक करने के लिए सोशल मीडिया का दुरुपयोग किया जा रहा है: सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने लोकसभा में कहा कि राजनीतिक पार्टियां इस देश के पॉलिटिकल नैरेटिव को आकार देने के लिए फेसबुक और ट्विटर जैसी कंपनियों का इस्तेमाल कर रही हैं

Updated: Mar 16, 2022, 01:41 PM IST

लोकतंत्र को हैक करने के लिए सोशल मीडिया का दुरुपयोग किया जा रहा है: सोनिया गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने लोकसभा में सोशल मीडिया की स्वतंत्रता का मुद्दा उठाया। सोनिया गांधी ने बुधवार को सदन को संबोधित करते हुए सोशल मीडिया के बढ़ते दुष्प्रभावों को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने इस दौरान कहा कि लोकतंत्र को हैक करने की कोशिशें हो रही है और यह सत्ता की मिलीभगत के साथ किया जा रहा है।

सदन में शून्यकाल के दौरान सोनिया गांधी ने कहा कि, 'वॉल स्ट्रीट जर्नल ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि कैसे फेसबुक ने रूलिंग पार्टी का साथ दिया था। ऐसे ही कई और रिपोर्ट में भी दावा किया गया। जिसमें बताया गया कि फेसबुक ने खुद अपने नियम तोड़ते हुए सत्तारूढ़ पार्टी और सरकार का पक्ष लिया। गलत जानकारी के चलते देश के युवाओं और बुजुर्गों में नफरत भरने का काम किया जा रहा है। कंपनियां भी इस बात से वाकिफ है, लेकिन अपने फायदे के लिए इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।'

यह भी पढ़ें: जो कटे रहे जड़ों‌ से, वे वटवृक्षों को उगना सिखा रहे हैं, कपिल सिब्बल पर बरसे सीएम भूपेश बघेल

सोनिया गांधी ने आगे कहा कि, 'फेसबुक द्वारा सत्ता की मिलीभगत से जिस तरह सामाजिक सौहार्द्र भंग किया जा रहा है, वह हमारे लोकतंत्र के लिए खतरनाक है।हमें अपने लोकतंत्र को बचाने की जरूरत है। भावनात्मक रूप से दी रही जानकारी के माध्यम से युवा और बूढ़े दिमाग नफरत से भरे जा रहे हैं। फेसबुक जैसी प्रॉक्सी विज्ञापन कंपनियां इससे अवगत हैं और इससे मुनाफा कमा रही हैं।'

कांग्रेस अध्यक्ष ने कई रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए कॉर्पोरेट नेक्सस का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि, 'ये हमारे देश और उसके लोकतंत्र के लिए काफी खतरनाक है। यह बार-बार नोटिस में आया है कि वैश्विक सोशल मीडिया कंपनियां सभी पार्टियों को समान अवसर प्रदान नहीं कर रही हैं। लिहाजा ऐसा मेकैनिज्म डिवेलप होना चाहिए, जिससे इन पर चुनाव के दौरान नियंत्रण रखा जा सके।'