चुनाव से हट जाओ, मैं कुछ नहीं सुनूंगा, पीएम मोदी ने निर्दलीय कैंडिडेट से धमकी भरे लहजे में की बात

हिमाचल प्रदेश के फतेहपुर विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे कृपाल परमार को फोन कर पीएम मोदी ने नामांकन वापस लेने को कहा, वीडियो वायरल होने पर कांग्रेस बोली- हार ने साहब की नींद उड़ा दी है।

Updated: Nov 06, 2022, 12:48 AM IST

चुनाव से हट जाओ, मैं कुछ नहीं सुनूंगा, पीएम मोदी ने निर्दलीय कैंडिडेट से धमकी भरे लहजे में की बात

कांगड़ा। हिमाचल प्रदेश चुनाव में सत्ताधारी बीजेपी के लिए बागी कैंडिडेट मुसीबत बन गए हैं। पार्टी 21 सीटों पर बगावत झेल रही है। केंद्रीय नेतृत्व को बागियों को मनाने में पसीने छूट गए, फिर भी सफलता नहीं मिली। ऐसे में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फ्रंट पर लाया गया है और पीएम मोदी धमकी भरे लहजे में निर्दलीय कैंडिडेट्स को नामांकन वापस लेने के लिए कह रहे हैं।

कांगड़ा जिले के फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र से ऐसा ही मामला सामने आया है। पीएम मोदी ने यहां से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे कृपाल परमार को फोन कर चुनाव से हट जाने को कहा है। सोशल मीडिया पर इसका एक वीडियो सामने आया है जिसमें पीएम मोदी उनसे कह रहे हैं कि "चुनाव से हट जाओ, मैं कुछ नहीं सुनूंगा।"

यह भी पढ़ें: गुजरात चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, कद्दावर नेता जयनारायण व्यास ने सभी पदों से दिया इस्तीफा

पीएम मोदी ने इस दौरान कृपाल परमार से सभी मांगों को पूरा करने की भी बता कही। वहीं, बागी नेता कृपाल ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की शिकायत करते हुए कहा कि वे मुझे 15 साल से जलील कर रहे हैं। इस पर PM ने कहा मैं देख लूंगा, अगर आपकी जिंदगी में मेरा कोई रोल है तो आप हट जाएं। फिर परमार कहते हैं आपका बहुत रोल है। मेरे लिए यह भगवान का आदेश है। अंत में परमार कहते हैं कि मोदी जी फोन दो दिन पहले हो जाता तो बेहतर होता।

वीडियो सामने आते ही कांग्रेस आक्रामक हो गई है। कांग्रेस सोशल मीडिया विंग की चेयरपर्सन सुप्रिया श्रीनेत ने ट्वीट किया, 'नड्डा जी नाकाम हो गये- अब साहेब खुद ही बागियों को फोन घुमा रहे हैं। आगामी हार ने नींद उड़ा दी साहेब की।' वहीं युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी ने चुनाव आयोग से संज्ञान लेने की मांग की है।

दरअसल, हिमाचल में इस बार भाजपा ने एंटी इनकमबेंसी कम करने के लिए 10 सिटिंग विधायकों का टिकट बदल दिया है। लेकिन पार्टी के लिए यह दांव उल्टा पड़ता दिख रहा है। भाजपा के लिए सालों तक काम करने वाले कई नेता बागी हो गए हैं। बीजेपी हाईकमान को इस बात का पूरा अंदाजा है कि बगावत के चलते पार्टी को बड़ा नुकसान हो सकता है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस का मेनिफेस्टो जारी, पहली कैबिनेट बैठक में 1 लाख रोजगार देने का वादा

68 विधानसभा सीट वाले हिमाचल में 21 सीटों पर भाजपा बगावत झेल रही है। बागियों के उतरने से सभी सीटों पर BJP की स्थिति टाइट हो गई है। इससे पार्टी को विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हार का डर सता रहा है। इन चुनौतियों से निपटने में संगठन के माथे पर पसीना देखा जा रहा है। ऐसे में अब पार्टी नेतृत्व ने पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से खुद हस्तक्षेप करने को कहा है।