उत्तराखंड: चमोली में ग्लेशियर टूटने से आई तबाही, 8 शव बरामद, 384 लोगों को किया गया रेस्क्यू

यह हादसा नीती घाटी के सुमना में भारी बर्फबारी के बाद हुआ, भारतीय सेना, आईटीबीपी और BRO राहत कार्य में जुटे

Publish: Apr 25, 2021, 10:01 AM IST

उत्तराखंड: चमोली में ग्लेशियर टूटने से आई तबाही, 8 शव बरामद, 384 लोगों को किया गया रेस्क्यू
Photo Courtesy: Amar Ujala

देहरादून। उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से एक मर्तबा फिर भारी तबाही मची है। चमोली जिले के नीती घाटी के सुमना में भारी बर्फबारी के कारण ग्लेशियर टूट गया। जिस वजह लोगों का जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो चुका है। अब तक राहत कार्य टीम ने 384 लोगों को रेस्क्यू किया है। जबकि 8 शव बरामद किए गए हैं। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीते कुछ रोज़ से पर्वतीय क्षेत्रों में भारी बारिश और बर्फबारी हो रही थी। जिसके बाद सुमना इलाके में ग्लेशियर टूट गया। चमोली में ग्लेशियर टूटने की वजह से रैणी में ऋषिगंगा नदी का जल स्तर भी बढ़ गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ऋषिगंगा में यह जल स्तर दो फूट तक बढ़ा है। 

राहत कार्य टीम लगातार बचाव कार्य में लगी हुई हैं। इलाके में ग्लेशियर टूटने के बाद से ही रेड अलर्ट जारी किया जा चुका है। राज्य के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने ट्वीट कर बताया कि गृह मंत्री अमित शाह ने इस हादसे के बाद उत्तराखंड के लोगों को हर मदद का आश्वासन दिया है। तीरथ सिंह रावत ने कहा, 'माननीय गृह मंत्री श्री अमित शाहजी ने नीति घाटी के सुमना में ग्लेशियर टूटने की सूचना का तत्काल संज्ञान लिया है। उन्होंने इस घटना को गंभीरता से लेते हुए उत्तराखंड को पूरी मदद देने का आश्वासन दिया है और आईटीबीपी को सतर्क रहने के निर्देश दिये है।

 

इससे पहले भी 7 फरवरी को चमोली ज़िले में ही ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही आई थी। इस हादसे में करीब 79 लोगों की ज़िंदगियां चली गई थीं। जबकि 200 से अधिक लोग लापता बताए गए थे।