CM खट्टर का विरोध कर रहे किसानों के साथ बर्बरता, राकेश टिकैत ने किया हिसार कूच

हरियाणा सीएम मानोहर लाल खट्टर के एक कार्यक्रम में विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस ने जमकर बरसाई लाठियां, कांग्रेस बोली- सब याद रखा जाएगा, टिकैत बोले- हमें लाठी-गोली नहीं रोक सकती

Updated: May 16, 2021, 05:18 PM IST

CM खट्टर का विरोध कर रहे किसानों के साथ बर्बरता, राकेश टिकैत ने किया हिसार कूच
Photo Courtesy: Twitter

हिसार। हरियाणा के हिसार में सीएम मनोहर लाल खट्टर को एक बार फिर किसानों के विरोध का सामना करना पड़ा है। सीएम के कार्यक्रम के दौरान सैंकड़ों की संख्या में किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। प्रदर्शनकारी किसानों पर पुलिस द्वारा बलप्रयोग किए जाने की खबर है। बताया जा रहा है कि किसानों पर पुलिस ने जमकर लाठियां बरसाई, साथ ही आंसू गैस के गोले भी दागे। इस दौरान दर्जनों किसानों के घायल होने की खबर है। इस घटना के बाद किसान नेता राकेश टिकैत हिसार के लिए रवाना हो गए हैं।

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने ट्वीट किया, 'हरियाणा में निहत्थे किसानों पर लाठीचार्ज दुर्भाग्यपूर्ण है।किसान डरने वाले नही है। गाजीपुर बॉर्डर से हिसार के निकल चुका हूँ। आंदोलनकारी का रास्ता लाठी, गोली नही रोक सकती।' 

पुलिस द्वारा अन्नदाताओं पर लाठीचार्ज के इस घटना को लेकर कांग्रेस ने राज्य सरकार को निशाने पर लिया है। हरियाणा कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'हिसार में शांतिपूर्ण तरीके से मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का विरोध कर रहे किसानों पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया जाना बेहद शर्मनाक व निदंनीय है। सरकार हठधर्मिता त्याग तीनों काले कानून निरस्त करे। हरियाणा माँगे जवाब।' 

कांग्रेस ने एक अन्य ट्वीट में कहा है कि बीजेपी को हमारे किसानों के खून की एक एक बूंद की कीमत चुकानी पड़ेगी। कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'शर्मनाक तानाशाह। यह हिसार, हरियाणा है, कोई नाईजीरिया नही। शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे किसानों पर मनोहर-दुष्यंत की पुलिस का बेरहमी से लाठीचार्ज। बीजेपी - जज़पा को हमारे किसानों के खून की एक-एक बूंद की कीमत चुकानी पड़ेगी। सब याद रखा जायेगा।' 

रिपोर्ट्स के मुताबिक सीएम खट्टर हिसार में कोविड-19 अस्पताल का उद्घाटन करने गए थे। यहां उन्हें किसानों का नाराजगी का सामना करना पड़ा। हिसार के विभिन्न इलाकों से आए किसानों ने सीएम के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए चारो तरफ बैरिकेडिंग कर रखी थी। बताया जा रहा है कि पुलिस ने किसानों को वापस जाने की चेतावनी दी बावजूद किसान नारेबाजी करते रहे।

आक्रोशित किसान पुलिस बैरिकेडिंग तोड़कर कार्यक्रम स्थल की ओर बढ़ने लगे। इसके बाद पुलिस ने उनपर जमकर लाठियां बरसाई। लाठीचार्ज के बावजूद भी किसानों का प्रदर्शन जारी रहा। इस दौरान पुलिस ने किसानों पर आंसू गैस के कई गोले दागे। उसके बाद प्रदर्शन स्थल पर भगदड़ मच गई। पुलिस के लाठीचार्ज में दर्जनों किसानों के घायल होने की सूचना है।