कश्मीर के कुलगाम में आतंकवादियों द्वारा हिंदू महिला शिक्षिका की गोली मारकर हत्या, राजनैतिक दलों ने जताया शोक

12 मई को बडगाम के तहसील कार्यालय में पदस्थ क्लर्क राहुल भट्ट की आतंकवादियों द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जिसमें कश्मीरी पंडितों द्वारा पूरे जम्मू कश्मीर में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे

Updated: May 31, 2022, 04:12 PM IST

कश्मीर के कुलगाम में आतंकवादियों द्वारा हिंदू महिला शिक्षिका की गोली मारकर हत्या, राजनैतिक दलों ने जताया शोक

कश्मीर। जम्मू कश्मीर में टारगेट किलिंग यानि चिन्हित कर हत्या करने की एक ओर दुखद घटना घटित हुई। कश्मीर के कुलगाम के गोपालपुरा में पदस्थ एक हिंदू महिला शिक्षिका की आतंकवादियों द्वारा गोली मार कर हत्या कर दी गई। रजनी बाला जम्मू के सांबा सेक्टर की रहने वाली थी और दक्षिण कश्मीर के कुलगाम में गोपालपुरा में सरकारी स्कूल में पढ़ाती थी।

कश्मीर जोन पुलिस ने कहा है कि आतंकवादियों ने एक महिला शिक्षिका पर कुलगाम हाई स्कूल में गोली चलाई, जिसमें महिला गंभीर रूप से घायल हो गई और उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। गोपालपुरा क्षेत्र को आर्मी और पुलिस द्वारा पूरी तरह से घेर लिया गया है। इस जघन्य आतंकी अपराध में शामिल आतंकवादियों की जल्द ही पहचान कर उन्हें निष्प्रभावी कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें...दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज को लिखा पत्र, रायसेन के सरकारी कार्यक्रम में भाजपा की सदस्यता दिलाने को लेकर उठाए गंभीर सवाल

श्रीनगर में कश्मीरी पंडितों ने रजनी बाला की हत्या के विरोध में सड़क जाम कर दी। उनकी मांग है कि उनको जम्मू में पुनर्वासित किया जाए और अगर ये मांगें नहीं मानी गई तो 90 के दशक की तरह ही कश्मीर से बड़े पैमाने पर पलायन होगा।

जम्मू कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने इस घटना पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि एक स्कूल शिक्षिका रजनी बाला पर आतंकवादी हमला सबसे निंदनीय कार्य है। शोक संतप्त परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है। इस कायरतापूर्ण हमले के लिए आतंकवादियों और उनके हमदर्दों को अविस्मरणीय प्रतिक्रिया दी जाएगी।

 

जम्मू कश्मीर के नेता गुलाम नबी आजाद, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, सज्जाद लोन सभी ने इस घटना की निंदा की है। इससे पहले 12 मई को बडगाम के तहसील कार्यालय में पदस्थ क्लर्क राहुल भट्ट की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जिसमें कश्मीरी पंडितों द्वारा पूरे जम्मू कश्मीर में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे।