जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में मुठभेड़, तीन आतंकी ढेर, सेना अधिकारी समेत 4 सुरक्षाकर्मी हुए शहीद

कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर में भारतीय सेना के जवानों ने घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, इलाके में और आतंकियों के छिपे होने की आशंका, अतिरिक्त जवानों की हुई तैनाती

Updated: Nov 08, 2020, 08:36 PM IST

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में मुठभेड़, तीन आतंकी ढेर, सेना अधिकारी समेत 4 सुरक्षाकर्मी हुए शहीद
Photo Courtesy: PTI

कुपवाड़ा। जम्मू कश्मीर के माछिल सेक्टर में भारतीय सेना और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ की खबर है। बताया जा रहा है कि भारतीय सेना ने इलाके में पाकिस्तानी आतंकियों द्वारा घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया है। सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार भी गिराया है। इस मुठभेड़ के दौरान सेना के एक अफसर समेत तीन जवानों के शहीद हो गए हैं। इनमें बीएसएफ का एक जवान भी शामिल है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार कल रात एक बजे बीएसएफ के गश्ती दल ने एलओसी की बाड़ के पास कुछ संदिग्ध गतिविधियां देखीं। एलओसी से साढ़े तीन किलोमीटर के नजदीक एंटी इनफिलट्रेशन ऑब्स्टेकल सिस्टम के निकट यह हरकत देखी गई। इस दौरान सुरक्षाबलों ने तुरंत आतंकियों को ललकारा औऱ गोलीबारी में मौके पर ही एक आतंकी को ढेर कर दिया। इसके बाद गोलीबारी सुबह चार बजे तक चलती रही और जिसमें बीएसएफ का एक जवान भी शहीद हो गया।

इसके बाद मोर्चे को संभालते हुए इलाके में भारी संख्या में आर्मी के जवान गए। सुरक्षाबलों ने खुफिया निगरानी उपकरणों के जरिये आतंकियों की गतिविधियों पर निगाह रखी थी। रविवार सुबह 10 बजे के बाद जवानों में तलाशी अभियान चलाया जिसमें शामिल एक टीम और आतंकियों के बीच एलओसी के निकट गोलीबारी शुरू हो गई। इस दौरान दो आतंकियों को मार गिराया गया वहीं सैनिक भी हताहत हुए। आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार व बैग्स भी बरामद हुए हैं। 

और पढ़ें: सेना ने माना कि जवानों ने किया फर्ज़ी एनकाउंटर, आतंकी नहीं तीन मजदूर मारे

सुरक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि पाकिस्तान की ओर से सर्दियां शुरू होने के पहले घुसपैठ के प्रयास तेज हो गए हैं। चूंकि बर्फबारी के बाद आतंकियों द्वारा घुसपैठ करना मुश्किल हो जाता है ऐसे में पाकिस्तान चाहता है पूर्व से ही आतंकियों को भारत के अंदर दाखिल करा दी जाए। इस कारण नियंत्रण रेखा पर लगातार घुसपैठ की कोशिशें हो रही हैं, ताकि जम्मू-कश्मीर घाटी में उन्हें भेजकर अशांति फैलाई जा सके।हालांकि भारतीय सुरक्षाबलों के द्वारा पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की ज्यादातर कोशिशों को नाकाम की जा रही है।