Congress: प्रधानमंत्री मोदी टीवी पर जमे रहे, हमने बांटा जनता का दुख-दर्द

ट्वीटर पर ट्रेंड हुआ कांग्रेस का #LookingBackAt2020, यानी गुज़रे साल पर एक नज़र, कांग्रेस बोली, नफ़रत से सिर्फ चुनाव जीते जाते हैं, शांतिपूर्ण विरोध से दिलों को जीता जाता है

Updated: Jan 01, 2021, 12:55 AM IST

Congress: प्रधानमंत्री मोदी टीवी पर जमे रहे, हमने बांटा जनता का दुख-दर्द
Photo Courtesy : Twitter/INC

नई दिल्ली। 'लुकिंग बैक ऐट ट्वेंटी-ट्वेंटी' यानी एक नजर गुज़रे साल की ओर.. साल 2020 के अंतिम दिन कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ सोशल मीडिया पर इसी हैशटैग के साथ अभियान छेड़ दिया है। कांग्रेस ने इस हैशटैग के माध्यम से गुजरते वर्ष की कुछ खास घटनाओं और सियासी हालात पर एक नज़र डाली है। कांग्रेस ने इन के बारे में सिलसिलेवार ढंग से ट्वीट कर बताया है कि जब देश की जनता खुद के लिए संघर्ष कर रही थी तब सत्तारूढ़ बीजेपी क्या कर रही थी और कांग्रेस ने क्या किया। 

जनवरी 2020

जब दक्षिणपंथी ताकतें जामिया विश्वविद्यालय के बाहर खड़े होकर सरेआम गोलियां चला रही थीं, तब राष्ट्र ने एकजुट होकर शांतिपूर्ण ढंग से नागरिकता संशोधन एक्ट (सीएए) का विरोध किया। कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से लिखा है कि, 'शांतिपूर्ण ढंग से अपने विरोध को जता कर दिलों को जीता जाता है, नफरत से सिर्फ चुनाव जीते जाते हैं। बीजेपी ने देश को नफरत की आग में झोंका है। हिंसा और नफरत कभी भी देश को एकजुट होने का मौका नहीं देते।'

फरवरी 2020

कांग्रेस ने कहा है कि फरवरी महीने में जब देश की राजधानी दिल्ली दंगों में जल रही थी तब बीजेपी ने अपने दोस्तों के लिए रेड कारपेट बिछाया। कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'दिल्ली को दंगों की आग में झोंक कर दोस्तों के लिये रेड कारपेट बिछाया जा रहा था। हमारे भारत के आपसी-सद्भाव में नफरत का बीज बोया जा रहा था।' पार्टी ने उस घटनाक्रम के बारे में बताना चाहा है जब अनुराग ठाकुर और कपिल मिश्रा जैसे बीजेपी नेताओं के भाषणों के बाद राष्ट्रीय राजधानी में दंगे फैल गए थे और पीएम मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति के आवभगत में व्यस्त थे।

मार्च 2020

मार्च के बारे में कांग्रेस ने कहा है कि, 'जब प्रधानमंत्री टीवी पर थे, उस समय कांग्रेस जनता के बीच उनके हर दुख-दर्द को साझा कर रही थी। अनियोजित लॉकडाउन के कारण पैदा हुये प्रवासी संकट में कांग्रेस मजदूरों के साथ एकजुट होकर खड़ी थी।' कांग्रेस ने आगे कहा है कि सबसे विषम परिस्थितियों में भी चाहे वह इरादतन ही क्यों न हो, मानव जाति ने हमेशा फलने-फूलने का रास्ता ढूंढ ही लिया है। हमें उन हजारों कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर गर्व है जिन्होंने इस कठिन समय में सेवा का रास्ता चुना।'

अप्रैल 2020

अप्रैल महीने को लेकर कांग्रेस ने पीएम केयर्स फंड और स्वास्थ्य कर्मियों का जिक्र किया है। कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'मोदी सरकार ने पीएम केयर फंड का उपयोग जनता की केयर में नहीं बल्कि प्रधानमंत्री की केयर में खर्च किया है। पीएम केयर फंड की गोपनीयता अब तक बनी हुई है।' कांग्रेस ने आगे लिखा, 'हमारे बहादुर, अविश्वसनीय और निर्बाध स्वास्थ्य पेशेवरों के लिए लाखों सलाम। उनके बिना साल 2020 बेहद घातक और गंभीर हो गया होता। पूरा देश उनका ऋणी है।'

मई 2020

मई के बारे में कांग्रेस ने लिखा, 'कोरोना संकट में देश को दो नेताओं को परखने का मौका मिला; एक नेता जनता के साथ खड़ा होकर रिश्ता निभा रहा था, वहीं दूसरा नेता सत्ता की कुर्सी पर बैठ कर बस टीवी पर नजर आ रहा था। इस दौरान बीजेपी ने घोटालों से भी तहस-नहस मचा रखा था।' इस ट्वीट में दिखाया गया है कि राहुल गांधी कैसे प्रवासी मजदूरों से बैठ कर बातें कर रहे हैं और उन्हें घर भेजने का प्रबंध सुनिश्चित कर रहे हैं।

जून 2020

जून को लेकर कांग्रेस ने अनाज की किल्लत और गलवान घाटी में हुए जवानों के साथ हिंसा को याद किया है। कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'कोरोना संकट के दौरान जब प्रधानमंत्री अपने प्रचार में व्यस्त थे, उस समय कांग्रेस गरीबों के मुफ्त अनाज की मांग को मजबूती से उठा कर जनता के साथ अपने आत्मीयता के रिश्ते को निभा रही थी।' कांग्रेस ने आगे लिखा, 'गलवान के रणबांकुरों को हमारी श्रद्धांजलि। उनका अटूट आत्मविश्वास, साहस और अंतिम विश्वास इस बात का प्रमाण है कि भारत, उसकी सीमाएं, उसके लोग हमेशा सुरक्षित रहेंगे जबतक हमारे बहादुर सीमाओं पर डटे रहेंगे।

जुलाई 2020

जुलाई में हुए 10 लाख कोरोना केस और बिहार-असम के बाढ़ को याद कर कांग्रेस ने लिखा, 'जुलाई में 10 लाख कोरोना केस पार कर गए। 21 दिनों में कोविड-19 को नष्ट करने की पीएम मोदी की योजना ने लाखों भारतीय लोगों की जीवन और आजीविका को नष्ट कर दिया।' इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बढ़चढ़ कर बिहार और असम में बाढ़ पीड़ितों की मदद की। कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'हमने देश के प्रति अपनी हर जिम्मेवारी का निर्वहन पूरी निष्ठा के साथ किया। देश जब-जब संकट में आया है, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने देश के प्रति अपने कर्तव्य को बखूबी निभाया है।' ................ Continued