मिज़ोरम के एक गांव में नहीं है इंटरनेट की सुविधा, ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए पहाड़ी चढ़ रहे हैं छात्र

आइजोल से करीब सौ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है मावेरी गांव, 1700 की आबादी वाला यह गांव इंटरनेट की सुविधा से है महरूम

Updated: Jun 08, 2021, 09:02 AM IST

मिज़ोरम के एक गांव में नहीं है इंटरनेट की सुविधा, ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए पहाड़ी चढ़ रहे हैं छात्र

नई दिल्ली/आइजोल। एक तरफ डिजिटल इंडिया के दावे हैं दूसरी तरफ मिज़ोरम में एक गांव ऐसा है जो कि इंटरनेट की सुविधा से महरूम है। इंटरनेट कनेक्टिविटी की कमी ऐसी है कि छात्र अपनी ऑनलाइन परीक्षा के लिए पहाड़ी चढ़ रहे हैं। ताकि वहां पर बैठकर वे अपनी ऑनलाइन परीक्षा दे सकें। 

दरअसल राजधानी आइजोल से करीब 100 किलोमीटर के दूरी पर मावरेई (mawhrei) नामक गांव स्थित है। यह गांव मिज़ोरम के सैहा ज़िले के अंतर्गत आता है। इस गांव की आबादी 1700 से अधिक है। लेकिन आज के दौर में भी यह गांव इंटरनेट कनेक्टिविटी से महरूम है, जिसके कारण गांव के बच्चे पहाड़ी चढ़कर अपनी परीक्षा देने पर मजबूर हैं। 

जून महीने की शुरुआत से मिज़ोरम विश्वविद्यालय में ऑनलाइन परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं। इन्हीं परीक्षाओं में उपस्थित होने के लिए बीते एक हफ्ते से गांव के बच्चे रोज़ाना पहाड़ी चढ़ रहे हैं। पहाड़ी पर बांस की बनी एक अस्थाई झोपड़ी में बैठकर बच्चे परीक्षा दे रहे हैं। 

गांव के एक निवासी ने स्थानीय मीडिया को बताया कि हमारा गांव चारों तरफ से पहाड़ी से घिरा हुआ है, इसलिए हमारे गांव में इंटरनेट कनेक्टिविटी नहीं है। जिस वजह से बच्चे पहाड़ी चढ़ रहे हैं। गांव में 4G नेटवर्क नहीं है।