Rajasthan: अशोक गहलोत सरकार ने दिया विधायकों को तोहफ़ा

Ashok Gehlot: राजस्थान के विधायक सरकारी खर्च पर परिवार समेत कर सकेंगे विदेश यात्रा, अशोक गहलोत सरकार ने विधायकों की पेंशन भी बढ़ाई

Updated: Aug-28, 2020, 05:26 AM IST

Rajasthan: अशोक गहलोत सरकार ने दिया विधायकों को तोहफ़ा

जयपुर। राजनीतिक संकट से उबरने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायकों को बड़ा तोहफा दिया है। राजस्थान सरकार ने वर्तमान और पूर्व विधायकों को एक साथ खुश करने की कोशिश की है। राजस्थान विधानसभा में एक विधेयक पास हुआ है जिससे सभी विधायकों को सरकारी खर्चे पर परिवार समेत विदेश यात्रा कर सकेंगे। 

इस विधेयक की सबसे खास बात यह है कि इसका फायदा वर्तमान विधायकों के साथ-साथ पूर्व विधायकों को भी मिल सकेगा। पूर्व विधायक भी सरकारी खर्च पर परिवार समेत विदेश यात्रा कर सकेंगे। वहीं विधायकों की मासिक पेंशन भी 5 हजार रुपए तक बढ़ जाएगी। इस बिल के पास होने के साथ ही पूर्व विधायकों की पेंशन 12 हजार 500 रुपए से बढ़ाकर 17 हजार 500 रुपए या फिर विधायक को मिले अंतिम वेतन के पचास फीसदी के बराबर होगी।

विधायक और पूर्व विधायकों के साथ ही सरकार ने उप मुख्य सचेतक को मिलने वाला सत्कार भत्ता मुख्य सचेतक के बराबर कर दिया है। सचेतक का सालाना भत्ता 80 हजार रुपए कर दिया गया है। दरअसल विधानसभा में विधानसभा (अधिकारियों, सदस्यों की परिलब्धियां और पेंशन) एक्ट 1956 का संशोधित विधेयक पास हो गया है। इस बिल के पास होने के से पूर्व विधायकों की पेंशन 12 हजार 500 रुपये से बढ़कर 17 हजार 500 रुपये या विधायक को मिले अंतिम वेतन के 50 प्रतिशत के बराबर हो गई है। वहीं विधायक और पूर्व विधायक सरकारी खर्चे पर विदेश यात्रा भी कर सकेंगे।

पहले देश में कहीं भी आने जाने के लिए वर्तमान विधायकों को 3 लाख और पूर्व विधायकों 1 लाख रुपए सालाना दिया जाता है। लेकिन अब नए संशोधन विधेयक के पारित होने के बाद इस राशि का पुनर्भरण विदेश यात्रा के लिए भी किया सकेगा। अगर विधायक विदेश यात्रा पर भी जाते हैं तो उस किराए का भी वह पुनर्भरण करवा सकेंगे।

वहीं इस विधेयक में इस बात का भी ध्यान रखा गया है कि अगर किसी विधायक के पति या पत्नी नहीं होने की स्थिति में विधायक के एरियर का पैसा उनके बेटे, अविवाहित बेटियां और माता-पिता में बराबर बांट दिया जाएगा इसके पीछे राजस्थान सरकार का तर्क है कि कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है जिसके कारण अब तक दी जा रही पेंशन कम थी, इसलिए पेंशन की राशि को बढ़ाया जा रहा है।