ड्रग्स मामले में खुद फंसी NCB, मुंबई पुलिस करेगी उगाही के एंगल से जांच, संजय रावत ने दिए संकेत

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने कहा है कि मुंबई पुलिस को इस मामले पर स्वतः संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए, यह महाराष्ट्र को बदनाम करने की साजिश थी

Updated: Oct 25, 2021, 09:31 AM IST

ड्रग्स मामले में खुद फंसी NCB, मुंबई पुलिस करेगी उगाही के एंगल से जांच, संजय रावत ने दिए संकेत
Photo Courtesy : True Scoop

मुंबई। मुंबई में बॉलीवुड से जुड़े हस्तियों का ड्रग्स कनेक्शन जांचने वाली एनसीबी अब खुद कठघरे में है। एनसीबी के ही गवाह ने आज समीर वानखेड़े की पोल खोलकर रख दी है। इसी बीच अब खबर है कि मुंबई पुलिस उगाही के मामले में एनसीबी के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने भी इस बात के संकेत दिए हैं।

संजय राउत ने एनसीबी के गवाह प्रभाकर सेल द्वारा जारी वीडियो को साझा करते हुए कहा है कि पुलिस को इसपर स्वतः संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करनी चाहिए। राउत ने ट्वीट में लिखा है कि आर्यन खान ड्रग्स केस में गवाह से खाली पेपर्स पर हस्ताक्षर कराए गए ये हैरानी की बात है। पैसे मांगे जाने के भी कई रिपोर्ट्स आए हैं। सीएम उद्धव ठाकरे ने पहले ही कहा था कि यह महाराष्ट्र को बदनाम करने का षड्यंत्र है। अब उनकी बात सच साबित हो रही है। पुलिस को मामले पर खुद ही संज्ञान लेना चाहिए। 

उधर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री व एनसीपी नेता नवाब मालिक ने लिखा कि, 'सत्य ही जीतेगा। सत्यमेव जयते।' नवाब मलिक ने ही सबसे पहले एनसीबी को बेनकाब किया था और बताया था कि यह पूरा मामला उगाही का है और समीर वानखेड़े विदेशों में भी वसूली करने जाते हैं। 

दरअसल, आर्यन खान के खिलाफ केस में एनसीबी ने प्रभाकर सेल नामक आदमी को पंच बनाया था। अब प्रभाकर ने ही एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े और दूसरे गवाह केपी गोसावी के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं। प्रभाकर ने खुद को गोसावी का बॉडीगार्ड बताया है। केपी गोसावी वही शख्स है जो खुद को प्राइवेट डिटेक्टिव बताता है और उसने ही आर्यन के साथ सेल्फी ली थी। पैसे उगाही के मामले में गोसावी के खिलाफ पहले भी केस दायर हुए हैं।

यह भी पढ़ें: आर्यन खान को छोड़ने के लिए NCB ने मांगे 25 करोड़, गवाह के मुताबिक समीर वानखेड़े को 8 करोड़ देने की हुई थी डील

प्रभाकर ने बताया है कि उसने केपी गोसावी और सैम को 25 करोड़ रुपए की डील पर बात करते सुना था और अंत में 18 करोड़ रुपए में डील फाइनल हुई थी। प्रभाकर के मुताबिक इस 18 करोड़ रुपए में 8 करोड़ एनसीबी के जोनल अधिकारी समीर वानखेड़े को देने की बात हुई थी। प्रभाकर के मुताबिक क्रूज पर छापेमारी के बाद गोसावी और सैम ने एक नीली मर्सडीज कार के भीतर शाहरुख खान की मैनेजर पूजा डडलानी से 15 मिनट बात की थी। इसके बाद एनसीबी अधिकारियों ने उससे 10 सादे यानी ब्लैंक कागजों पर हस्ताक्षर भी कराया था। प्रभाकर ने मीडिया के सामने सबूत के रूप में कई वीडियो और फ़ोटो भी पेश किया है।