जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों से माफ़ी मांगता हूँ, सनराइज़ अस्पताल में आग लगने के बाद बोले उद्धव ठाकरे

गुरूवार देर रात मुंबई के सनराइज़ अस्पताल में आग लगने से दस लोगों की मौत की पुष्टि हुई है, फायर ब्रिगेड अब भी आग पर काबू पाने की कोशिश कर रही है

Updated: Mar 26, 2021, 06:11 PM IST

जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों से माफ़ी मांगता हूँ, सनराइज़ अस्पताल में आग लगने के बाद बोले उद्धव ठाकरे
Photo Courtesy : Livemint.com

मुंबई। मुंबई के सनराइज़ अस्पताल में लगी आग के बाद राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे खुद घटनास्थल का दौरा करने पहुंचे थे। अस्पताल का दौरा करने के बाद उद्धव ठाकरे ने भावुक अंदाज़ में कहा कि जिन लोगों की मौत हुई है उनके परिजनों से मैं क्षमा मांगता हूँ। उद्धव ठाकरे ने कहा कि इस पूरे मामले में जिसकी भी लापरवाही सामने आएगी उसके ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि फायर ब्रिगेड ने काफी अच्छा काम किया है। 

उद्धव ठाकरे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'जिनकी मौत हुई है उनके परिवारों से मैं क्षमा मांगता हूं।अगर इसमें किसी की अनदेखी होगी तो कार्रवाई जरूर होगी।कुछ लोग जो वेंटिलेटर पर थे उन्हें हम नहीं बचा पाए।' फायर ब्रिगेड ने अच्छा काम किया है। अस्पताल में आग लगने का कारण बताते हुए ठाकरे ने कहा कि अस्पताल के नीचे किसी ऑफिस या दुकान में आग लगी और फिर इसके बाद आग ने अस्पताल को अपनी चपेट में ले लिया। 

यह भी पढ़ें : मुंबई के अस्पताल में भीषण आग लगने से 10 लोगों की मौत, ज़्यादातर कोरोना मरीज़ थे अस्पताल में भर्ती

गुरूवार रात करीबन 11.30 बजे मुंबई के भांडुप इलाके में स्थित ड्रीम मॉल की तीसरी मंज़िल पर स्थित सनराइज़ अस्पताल में भीषण आग लग गई। इस दौरान अस्पताल में भर्ती कुल 10 लोगों की ज़िन्दगी चली गई। आग कितनी भीषण थी उसका इस बात से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि आग बुझाने के लिए दमकल की दस गाड़ियों को तैनात किया गया। लेकिन कड़ी मशक्क्त करने के बावजूद आग पर दिन में काबू पाया जा सका।  

यह भी पढ़ें : भारत बंद लाइव अपडेट्स: रेलवे ट्रैक जाम होने के कारण चार शताब्दी ट्रेनें रद्द

सनराइज़ अस्पताल में 78 मरीज़ भर्ती थे। जिसमें 73 कोरोना के मरीज़ थे। अस्पताल में आग लगने के बाद 30 मरीजों को मुलुंड के जंबो सेंटर जबकि तीन मरीजों को फोर्टिस अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। बाकी मरीज खुद को अलग अलग अस्पताल में भर्ती हुए हैं।