जो देशभक्त हैं वो नहीं मानते करकरे को देशभक्त, एक बार फिर शहीद करकरे को लेकर साध्वी प्रज्ञा ने दिया विवादित बयान

साध्वी प्रज्ञा ने कहा हेमंत करकरे का नाम लेते हुए कहा कि उसने मेरे शिक्षक की उंगलियां तोड़ दी थीं

Updated: Jun 26, 2021, 10:44 AM IST

जो देशभक्त हैं वो नहीं मानते करकरे को देशभक्त, एक बार फिर शहीद करकरे को लेकर साध्वी प्रज्ञा ने दिया विवादित बयान
Photo Courtesy : Times Of India

भोपाल। बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ने एक बार फिर विवादित बयान दे डाला है। आतंकी हमले में शहीद होने वाले हेमंत करकरे को लेकर एक बार फिर साध्वी प्रज्ञा ने अपने मुंह से ज़हर उगला है। साध्वी प्रज्ञा ने कहा है कि जो लोग देशभक्त हैं, वो हेमंत करकरे को देशभक्त नहीं मानते हैं। 

साध्वी प्रज्ञा ने कहा है कि हेमंत करकरे ने उनके शिक्षक की दो उंगलियां तोड़ दी थीं, लेकिन फिर भी हेमंत करकरे को लोग देशभक्त मानते हैं। साध्वी प्रज्ञा ने कहा, मेरे आचार्य जी, जिन्होंने मुझे कक्षा आठवीं में पढ़ाया, उनकी उस हेमंत करकरे ने उंगलियां तोड़ दी। उसको लोग देशभक्त कहते हैं, लेकिन जो वास्तव में देशभक्त हैं, वो उसे देशभक्त नहीं कहते। 

यह पहली बार नहीं है जब बीजेपी नेता ने  पहली बार हेमंत करकरे के खिलाफ जहर उगला हो। जब साध्वी को बीजेपी ने पिछले लोकसभा चुनाव में टिकट दिया था, तब भी साध्वी ने शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान देते हुए कहा था कि हेमंत करकरे की मौत मेरे शाप की वजह से हुई, क्योंकि हेमंत करकरे ने पूछताछ के दौरान मुझे टॉर्चर किया था। 

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के इस बयान के बाद जब बवाल मचा तब खुद को राष्ट्रवादी बताने वाली बीजेपी ने साध्वी के बयान से किनारा कर लिया। हालांकि बवाल मचने के बाद साध्वी ने अपने बयान पर खेद जरूर जताया लेकिन जिस तरह से एक बार फिर साध्वी ने शहीद हेमंत करकरे के खिलाफ जहर उगला है, उससे एक बार फिर विवाद बढ़ने की पूरी संभावना है। फिलहाल साध्वी का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, और लोग साध्वी को सोशल मीडिया पर खूब भला बुरा कह रहे हैं। 

हेमंत करकरे 26 नवंबर 2008 को हुए मुंबई आंतकवादी हमले में आतंकियों के खिलाफ लड़ते लड़ते शहीद हो गए थे। हेमंत करकरे को उनकी वीरता के लिए भारत सरकार ने अशोक चक्र के सम्मान से नवाजा। हेमंत करकरे को 2006 में हुए मालेगांव ब्लास्ट की जांच करने की जिम्मेदारी मिली थी। जिस मामले में बीजेपी नेता साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अब तक आरोपों से बरी नहीं हुई हैं।