Rahul Gandhi: मजदूरों, किसानों और युवाओं पर हमला था लॉकडाउन

Lockdown: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा बिना तैयारी के लॉकडाउन ने करोड़ों रोजगार छीन लिए, उद्योग धंधे बंद कर दिए

Updated: Sep 09, 2020 04:14 PM IST

Rahul Gandhi: मजदूरों, किसानों और युवाओं पर हमला था लॉकडाउन

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी वीडियो सीरीज के जरिए आर्थिक मोर्चे पर केंद्र सरकार पर लगातार हमला कर रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने अपने नए वीडियो में लॉकडाउन को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अचानक किया गया लॉकडाउन अर्थव्यवस्था के असंगठित क्षेत्र के लिए मृत्युदंड शामिल हुआ। राहुल गांधी ने कहा कि लॉकडाउन कोरोना पर हमला ना होकर, देश के करोड़ों गरीबों, मजदूरों, किसानों, आम लोगों पर हमला था। 

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मार्च के आखिर में देश में 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की थी। राहुल गांधी ने कहा कि सरकार ने 21 दिन में कोरोना खत्म करने का वादा किया था लेकिन असल में उन 21 दिनों में करोड़ों रोजगार और छोटे उद्योग खत्म कर दिए। 

राहुल गांधी ने लॉकडाउन को नोटबंदी और जीएसटी के बाद असंगठित क्षेत्र पर केंद्र सरकार द्वारा किया गया तीसरा हमला करार दिया। इससे पहले उन्होंने कहा था कि नोटबंदी और जीएसटी केंद्र सरकार की भूल नहीं थी, बल्कि सोचे समझे कदम थे। इन कदमों का उद्देश्य देश की रीढ़ माने जाने वाले असंगठित क्षेत्र को खत्म करना है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के कारण 20 से 20 साल के 2.71 करोड़ के युवा बेरोजगार हो गए। 

Click: Rahul Gandhi GDP में गिरावट का बड़ा कारण गब्बर सिंह टैक्स

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने लॉकडाउन को खोले जाने के बाद केंद्र सरकार द्वारा प्रभावी कदम ना उठाने को लेकर भी सरकार की आलोचना की। उन्होंने जोर देकर कहा कि कांग्रेस पार्टी ने बार-बार सरकार से न्याय योजना लागू करने की बात कही, गरीबों को सीधे नकद देने की बात कही, एमएसएमई सेक्टर को 1 लाख करोड़ का विशेष पैकेज देने की बात कही, लेकिन सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंगी। 

राहुल गांधी ने कहा कि केवल गरीबों को नकद पैसा देकर ही इस संकट का सामना किया जा सकता था लेकिन केंद्र सरकार ने गरीबों को कुछ देने की जगह केवल 15-20 उद्योगपतियों का लाखों करोड़ों का कर्ज माफ कर दिया। 

Click: Rahul Gandhi नोटबंदी से गरीबों का पैसा अमीरों को दिया गया

अंत में उन्होंने कहा कि लॉकडाउन हमारे युवाओं के भविष्य, मजदूरों-किसानों और छोटे व्यापारियों पर आक्रमण था। उन्होंने कहा कि आम लोगों को यह बात समझनी होगी और इस हमले के खिलाफ संगठित होकर लड़ना होगा।