पीएम के दौरे के बाद और असुरक्षित हो गया बांग्लादेश का हिन्दू, बांग्लादेश में भड़की हिंसा पर शिवसेना का मोदी पर वार

प्रधानमंत्री मोदी बांग्लादेश के दो दिवसीय दौरे पर बांग्लादेश गए थे, बांग्लादेश के कट्टरवादी इस्लामिक संगठनों ने मोदी के दौरे का विरोध किया था, इसी विरोध के दौरान बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हिंसक हमले हुए

Updated: Mar 30, 2021, 02:48 PM IST

पीएम के दौरे के बाद और असुरक्षित हो गया बांग्लादेश का हिन्दू, बांग्लादेश में भड़की हिंसा पर शिवसेना का मोदी पर वार
Photo Courtesy: The Economic Times

मुंबई/नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी के दौरे के बाद बांग्लादेश में भड़की हिंसा को लेकर शिवसेना ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोला है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर निशाना साधा है। शिवसेना ने सामना में मोदी के दो दिवसीय बांग्लादेश दौरे का उल्लेख करते हुए कहा है कि मोदी के दौरे के बाद बांग्लादेश में हिन्दू और असुरक्षित हो गए हैं।

यह भी पढ़ेंबांग्लादेश दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी ने की इंदिरा गांधी की तारीफ़, कहा, बांग्लादेश की आज़ादी में पूर्व पीएम ने निभाई अहम भूमिका

प्रधानमंत्री मोदी के दौरे और उसके बाद बांग्लादेश में भड़की हिंसा का का ज़िक्र करते हुए सामना ने अपने संपादकीय में लिखा है कि मोदी के दौरे के बाद कट्टरवादी इस्लामिक संगठनों ने बांग्लादेश के हिन्दू मंदिरों में तोड़फोड़ की है। शिवसेना ने सामना में कहा है कि मोदी के दौरे के बाद वहां के हिन्दू बस्तियों पर हमले शुरू हो गए हैं। अब तक 12 लोगों की जान चुकी है। शिवसेना ने इस हिंसा को मोदी के दौरे का ही फल करार दिया है। शिवसेना ने कहा है कि मोदी तो बांग्लादेश जा कर लौट आए लेकिन मोदी के दौरे से वहां का हिंदू अधिक असुरक्षित हो गया। 

यह भी पढ़ेंफारूक अब्दुल्ला हुए कोरोना से संक्रमित, उमर अब्दुल्ला परिवार सहित हुए क्वारंटाइन

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी 25 और 26 मार्च को बांग्लादेश के दो दिवसीय दौरे पर थे। मोदी के दौरे का बांग्लादेश के कुछ कट्टर इस्लामिक संगठनों ने विरोध शुरू कर दिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस में झड़प शुरू हो गई। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने बांग्लादेश के हिन्दू मंदिरों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। प्रदर्शनकारियों ने ट्रेनों में सवार यात्रियों पर भी हमला किया है। अब तक इस हिंसा में 12 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि मौतों का यह आंकड़ा अभी और बढ़ने की आशंका है।