ये मोहन भागवत को भी दिखा दीजिए: सावरकर का माफीनामा लहराकर बोले राहुल गांधी

विनायक दामोदर सावरकर ने अंग्रेजों की मदद की थी। उन्होंने गांधी, नेहरू, पटेल सबको धोखा दिया। अंग्रेजों को पत्र लिखकर कहा कि मैं आपका नौकर रहना चाहता हूं: राहुल गांधी

Updated: Nov 17, 2022, 06:53 PM IST

ये मोहन भागवत को भी दिखा दीजिए: सावरकर का माफीनामा लहराकर बोले राहुल गांधी

नई दिल्ली। विनायक दामोदर सावरकर द्वारा ब्रिटिश काल में स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान लिखी गई माफीनामे को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपने बयान पर अडिग हैं। राहुल गांधी ने आज सावरकर द्वारा अंग्रेजों को लिखी हुई चिट्ठी भी पढ़कर सुनाई। राहुल गांधी ने सावरकर की चिट्ठी दिखाते हुए उसकी आखिरी लाइन भी पढ़ी। राहुल ने कहा सावरकर ने लिखा था, 'सर, मैं आपका नौकर रहना चाहता हूं।'

राहुल गांधी ने सावरकर का माफीनामा लहराते हुए कहा कि ये मोहन भागवत को दिखा दीजिए। अगर महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस देखना चाहते हैं तो वो भी देख लें। सावरकर ने अंग्रेजों की मदद की थी। मैं बहुत क्लियर हूं। सावरकर ने डर की वजह से अंग्रेजों से माफी मांगी, लेकिन गांधीजी, नेहरू और पटेल ने कभी ऐसा नहीं किया।

कांग्रेस नेता ने कहा कि, 'इस देश में एक ओर सावरकर और दूसरी ओर गांधी के विचारों की लड़ाई है। मेरी राय है कि सावरकर ने डर की वजह से चिट्ठी पर साइन किया तो वहीं नेहरू, पटेल गांधी सालों जेल में रहे, कोई चिट्ठी साइन नहीं की। सावरकर के चिट्ठी पर साइन करना हिंदुस्तान के सभी नेताओं के साथ धोखा था। अगर सावरकर डरते नहीं तो कभी हस्ताक्षर नहीं करते।'

सहयोगी दलों से इस मुद्दे पर मतभेद को लेकर राहुल गांधी ने कहा, 'अगर कोई अपनी विचारधारा आगे रखना चाहता है, तो उन्हें ऐसा करना ही चाहिए। लेकिन इस खत पर दस्तखत करने की वजह से सावरकर जी के बारे में मेरे विचार ऐसे हैं। महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और वल्लभभाई पटेल ने तो सालों जेल में बिताए, लेकिन उन्होंने कभी ऐसे खत पर दस्तखत नहीं किए।'

यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो यात्रा एक तपस्या है, 35 सौ किमी पैदल चलना आसान नहीं: मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रभारी

कांग्रेस पार्टी भी राहुल गांधी के बयान का समर्थन करती नज़र आई। पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने गुरुवार को ही गुजरात में कहा, 'यह सच्चाई है... सावरकर ही थे, जिन्होंने ब्रिटिश से माफी मांगी थी, और देश को अंग्रेज़ों के हाथ बेच दिया था... मैं भी यही कहूंगा।'

वहीं राहुल गांधी द्वारा सावरकर की माफी वाली चिट्ठी दिखाई जाने पर विनायक दामोदर सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने नाराजगी जताई है। उन्होंने आरोप लगाया कि सावरकर का अपमान किया गया। वह कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले के खिलाफ मुंबई के शिवाजी पार्क पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराएंगे।