हम प्रेस की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं, भारत में बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री बैन किए जाने पर बोला अमेरिका

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि हम दुनिया में स्वतंत्र प्रेस का समर्थन करते हैं और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता व लोकतांत्रिक सिद्धांतों के महत्व को समझते हैं।

Updated: Jan 26, 2023, 09:59 AM IST

हम प्रेस की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं, भारत में बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री बैन किए जाने पर बोला अमेरिका

वॉशिंगटन। गुजरात दंगों को लेकर निर्मित बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री को भारत सरकार ने प्रतिबंधित कर दिया है। दुनियाभर में इसे मीडिया की आवाज को दबाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। अमेरिका ने भी इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हम प्रेस की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं।

अमेरिकी विदेश विभाग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री पर भारत द्वारा प्रतिबंध लगाने को प्रेस की स्वतंत्रता का मामला बताया है। अमेरिका ने कहा है, कि यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता जैसे लोकतांत्रिक सिद्धांतों के महत्व को पूरी दुनिया में हाइलाइट करने का सही समय है और ऐसा भारत में भी लागू होता है।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने डेली प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा कि हम दुनिया में स्वतंत्र प्रेस का समर्थन करते हैं और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता व लोकतांत्रिक सिद्धांतों के महत्व को समझते हैं। 

यह भी पढ़ें: JNU के बाद जामिया में BBC की डॉक्यूमेंट्री को लेकर हंगामा, स्क्रीनिंग के ऐलान के बाद 10 छात्र गिरफ्तार

उन्होंने आगे कहा कि हम अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, धर्म या विश्वास की स्वतंत्रता जैसे लोकतांत्रिक सिद्धांतों के महत्व को मानव अधिकारों के रूप में उजागर करना जारी रखते हैं जो हमारे लोकतंत्र को मजबूत करने में योगदान करते हैं। यह एक बिंदु है जिसे हम दुनिया भर में अपने रिश्तों में बनाते हैं। यह निश्चित रूप से एक बिंदु है जिसे हमने भारत में भी बनाया है।

इससे पहले सोमवार को एक प्रेस ब्रीफिंग को संबोधित करते हुए प्राइस ने कहा कि ऐसे कई तत्व हैं जो भारत के साथ अमेरिका की वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करते हैं जिसमें राजनीतिक, आर्थिक और असाधारण रूप से गहरे लोगों से लोगों के संबंध शामिल हैं। उन्होंने उस दिन मीडिया से कहा था कि आप जिस डॉक्यूमेंट्री का जिक्र कर रहे हैं, मैं उससे परिचित नहीं हूं।