BCCI: टीम इंडिया को 10 महीने से नहीं मिला वेतन

Indian Cricket Team: दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड के कॉन्ट्रैक्ट से जुड़े 27 खिलाड़ियों को अक्टूबर 2019 से ही सैलरी व मैच फीस का इंतजार

Updated: Aug-02, 2020, 01:09 PM IST

BCCI: टीम इंडिया को 10 महीने से नहीं मिला वेतन
photo courtesy :sportskeeda

मुंबई। दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड माने जाने वाले भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड बीसीसीआई ने पिछले दस महीने से अपने खिलाड़ियों को वेतन नहीं दिया है।बीसीसीआई के 27 एलीट अनुबंधित खिलाड़ियों को अभी पिछले साल अक्टूबर से देय तिमाही किश्तों का पहला हिस्सा मिलना बाकी है। इसके साथ ही राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ियों को दिसंबर 2019 के बाद से खेले गए दो टेस्ट,आठ टी 20 और 9 वनडे मैचों की फीस नहीं मिली है। भारतीय क्रिकेटरों को प्रत्येक टेस्ट, वनडे और टी-20 के लिए क्रमशः 15 लाख रुपये, 6 लाख रुपये और 3 लाख रुपये मिलते हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ बीसीसीआई कोई कुल मिला कर 99 करोड़ रुपए की राशि टीम के क्रिकेटरों को भुगतान करनी है। जो कि पिछले दस महीने से बकाया है। बोर्ड टीम के खिलाड़ियों को उनके ग्रेड के हिसाब से वेतन देता है। मसलन,ए ग्रेड की श्रेणी में आने वाले टीम के कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह को सालाना 7 करोड़ रुपए वेतन के तौर पर दिए जाते हैं। ग्रेड ए में ही आने वाले अन्य क्रिकेटरों को 5 करोड़ रुपए सालाना वेतन के तौर पर दिए जाते हैं। वहीं ग्रेड बी और सी के क्रिकेटरों को क्रमशः 3 और 1 करोड़ रुपए दिए जाते हैं। 

बीसीसीआई द्वारा सार्वजनिक की गई पिछली बैलेंस शीट के मुताबिक, मार्च 2018 तक उसके पास 5,526 करोड़ रुपये का कैश और बैंक बैलेंस था, जिसमें फिक्स्ड डिपॉजिट में 2,992 करोड़ रुपये शामिल थे। अप्रैल 2018 में बीसीसीआई ने स्टार टीवी के साथ 6,138.1 करोड़ रुपये की पांच साल की ब्रॉडकास्टिंग डील साइन की। इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ टीम के कुल 8 खिलाड़ियों ने वेतन न दिए जाने की बात स्वीकार की है। इंजब अखबार ने बोर्ड के कोषाध्यक्ष से इस मसले पर जवाब देने के लिए कहा तो अरुण धूमल ने किसी भी कॉल या मेसेज का जवाब नहीं दिया।

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया कि टीम इंडिया के सीनियर खिलाड़ी ने नाम ज़ाहिर न करने की शर्त पर बताया है कि बोर्ड आमतौर पर खिलाड़ियों से हर तीन महीने में अनुबंध के बकाए के लिए चालान बढ़ाने के लिए कहता है। लेकिन इस बार अनुबंधित क्रिकेटरों की नई सूची घोषित होने के बाद से बोर्ड ने हमें कोई स्पष्ट निर्देश नहीं दिए हैं। बीसीसीआई अनुबंध के पैसे चार किश्तों में देता था लेकिन अब हमें नहीं पता कि भुगतान कब आएगा। पिछले महीने हमें फरवरी में न्यूजीलैंड दौरे के लिए चालान बढ़ाने के लिए कहा गया था।

घरेलु क्रिकेटरों को भी वेतन नहीं मिला है 
प्रथम श्रेणी और आयु वर्ग के क्रिकेटरों के लिए भी भुगतान में देरी हुई है। झारखंड, मुंबई, बंगाल, जम्मू-कश्मीर, पांडिचेरी, बड़ौदा, रेलवे, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई घरेलू खिलाड़ियों ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि पिछले सीजन के लिए 'फुल सेटलमेंट ' नहीं किया गया है। हालांकि बीसीसीआई की वेबसाइट के मुताबिक, क्रिकेट गतिविधियों के लिए सालाना सब्सिडी के हिस्से के भुगतान के रूप में सभी राज्य इकाइयों को 10 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं।