महान फुटबॉलर डिएगो माराडोना का हार्ट अटैक से निधन, शोक में डूबे फैंस

Diego Maradona Passes Away: दुनिया के महानतम फुटबॉलर्स में शामिल माराडोना की दो हफ्ते पहले ही हुई थी सर्जरी, अर्जेंटीना की वर्ल्ड कप जीत के कप्तान और हीरो थे

Updated: Nov 26, 2020, 03:48 PM IST

महान फुटबॉलर डिएगो माराडोना का हार्ट अटैक से निधन, शोक में डूबे फैंस
Photo Courtesy: Jagran

नई दिल्ली। पेले के बाद दुनिया के महानतम फुटबॉलर कहे जाने वाले डिएगो माराडोना का निधन हो गया है। दुनिया के करोड़ों फुटबॉल प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाले माराडोना का निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ। उन्होंने 60 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। माराडोना लंबे समय से बीमार चल रहे थे। माराडोना के निधन से दुनियाभर के फुटबॉल प्रेमी सदमे में हैं। माराडोना 1986 में फुटबॉल वर्ल्ड कप जीतने वाली अर्जेंटीना की टीम के सिर्फ कप्तान ही नहीं थे, अपनी टीम को उस खिताब तक पहुंचाने में उनकी सबसे बड़ी भूमिका थी। वो उस जीत के महानायक थे।  

रिपोर्ट्स के मुताबिक दो सप्ताह पहले ही उन्हें ब्रेन में क्लॉट की वजह से सर्जरी करवानी पड़ी थी। माराडोना के वकील ने उस दौरान मीडिया को जानकारी दी थी कि अभी माराडोना के लिए शराब की लत छोड़ना काफी जरुरी है। शराब की थोड़ी सी मात्रा भी उनके लिए घातक होगी। सर्जरी के बाद परिवार के साथ क्वालिटी टाइम बिताने के लिए उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी गई थी। 

माराडोना के निधन पर प्रतिक्रियाओं का दौर भी शुरू हो गया है। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने ट्वीट किया कि मेरे हीरो नहीं रहे। मैंने आपके लिए फुटबॉल देखा। वहीं, ब्राजील के महान फुटबॉलर पेले ने कहा कि उम्मीद है कि हम आसमान में साथ फुटबॉल खेलेंगे। बता दें कि माराडोना साल 2017 में एक चैरिटी मैच के लिए भारत आए थे। इस दौरान माराडोना की टीम और सौरभ गांगुली की टीम के बीच मैच हुआ था।

माराडोना को सर्वकालिक महान फुटबॉलर कहा जाता है। अर्जेंटीना को 1986 फुटबॉल वर्ल्ड कप जितवाने में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी। साल 1976 में फुटबॉल की दुनिया में कदम रखने वाले माराडोना ने इसके एक दशक बाद खुद की कप्तानी में अर्जेंटीना ने 1986 का विश्व कप जीता। इस दौरान उन्होंने खेल के इतिहास के दो यादगार गोल भी किए।

हैंड ऑफ गॉड गोल से हुए मशहूर

साल 1986 के फीफा विश्वकप में माराडोना छाए रहे। अपनी कप्तानी में उन्होंने विश्वकप जीता लेकिन मैच के दौरान कुछ ऐसा हुआ कि वह सदा के लिए अमर हो गए। दरअसल, इंग्लैंड के खिलाफ क्वॉर्टर फाइनल मैच में उन्होंने एक चमत्कारी गोल किया, रेफरी ने गोल दे दिया और अर्जेंटीना की टीम वो मैच 2-1 से जीत भी गई। लेकिन बाद में यह बात सामने आई कि दरअसल गेंद मारते समय माराडोना का हाथ उससे छू गया था। बाद में इस गोल के दौरान गेंद से छू गए माराडोना के हाथ को लोग तंज़ में हैंड ऑफ गॉड कहने लगे।