ऑक्शन में मैक्सवेल की लग सकती है सबसे बड़ी बोली, शाकिब अल हसन भी दौड़ में

क्रिकेट दिग्गजों की राय में ग्लेन मैक्सवेल, शाकिब अल हसन मिनी ऑक्शन में सबसे महंगे खिलाड़ी बन सकते हैं, 18 फरवरी को चेन्नई में आईपीएल का मिनी ऑक्शन होना है

Updated: Feb 17, 2021, 05:59 PM IST

ऑक्शन में मैक्सवेल की लग सकती है सबसे बड़ी बोली, शाकिब अल हसन भी दौड़ में

नई दिल्ली। 18 फरवरी को आईपीएल के 14 वें संस्करण के लिए चेन्नई में नीलामी होनी है। क्रिकेट के दिग्गजों का मानना है कि इस मिनी ऑक्शन में ऑस्ट्रलिया के तूफानी बल्लेबाज़ ग्लेन मैक्सवेल सबसे महंगे खिलाड़ी बन सकते हैं। गौतम गंभीर और आकाश चोपड़ा की राय में ग्लेन मैक्सवेल के नाम पर ही सबसे बड़ी बोली लगेगी। गंभीर की राय में आरसीबी विराट कोहली और एबी डिविलियर्स के ऊपर दबाव कम करने के लिए मैक्सवेल पर बड़ी बोली लगा सकती है। आशीष नेहरा का मानना है कि बांग्लादेशी ऑलराउंडर शाकिब अल हसन सबसे ज़्यादा कीमत पर बिकेंगे। 

हालांकि चेन्नई में होने वाली नीलामी में खिलाड़ियों की कीमत इस बात पर भी निर्भर करेगी कि कौन सी टीम के पास कितने स्लॉट खाली हैं और टीमों के पास कितना खजाना बचा हुआ है। मिनी ऑक्शन में कुल 61 स्लॉट्स के लिए नीलामी होनी है। इसमें 22 स्लॉट्स विदेशी खिलाड़ियों के लिए हैं, जबकि 39 स्लॉट्स भारतीय खिलाड़ियों के लिए। ऐसा इसलिए क्योंकि आईपीएल के नियमों के मुताबिक अधिकतम 25 खिलाड़ी ही एक टीम का हिस्सा हो सकते हैं। जिसमें 17 भारतीय खिलाड़ियों का होना अनिवार्य है। कोई भी टीम अधिकतम 8 विदेशी खिलाड़ियों को ही रख सकती है। आईपीएल के मैचों में किसी भी एक टीम में अधिकतम चार विदेशी खिलाड़ी ही खेल सकते हैं। 

आईपीएल की नीलामी से पहले कुल 33 खिलाड़ी ऐसे हैं जो कि अधिकतम बेस प्राइस (2 करोड़, 1.5 करोड़ और 1 करोड़) की श्रेणी में शामिल हैं। इन 33 खिलाड़ियों में 29 खिलाड़ी विदेशी हैं। जबकि केवल 4 भारतीय खिलाड़ी ऐसे हैं, जो एक करोड़ या उससे अधिक बेस प्राइस की श्रेणी में आते हैं। चेन्नई सुपरकिंग्स द्वारा रिलीज़ किए जाने के बाद हरभजन सिंह और केदार जाधव दोनों ही खिलाड़ियों ने अपना बेस प्राइस 2 करोड़ रुपए तय किया है। जबकि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर सिडनी टेस्ट ड्रॉ कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हनुमा विहारी और तेज़ गेंदबाज़ उमेश यादव एक करोड़ के बेस प्राइस की श्रेणी में हैं। गौतम गंभीर का मनना है कि पंजाब किंग्स (पहले किंग्स इलेवेन पंजाब) उमेश यादव पर अपना दांव खेल सकती है। क्योंकि टीम के पास मोहम्मद शमी के अलावा कोई फ्रंटलाइन तेज़ गेंदबाज़ नहीं है।   

टीमों के पास खजाना कितना बाकी, कितने स्लॉट्स खाली 
मिनी ऑक्शन में सबसे ज़्यादा स्लॉट्स रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के पास बाकी हैं। आरसीबी के पास 11 स्लॉट्स खाली हैं, जिनमें 3 विदेशी खिलाड़ियों के लिए जगह बची हुई है। इसके बाद पंजाब और राजस्थान के पास 9-9 स्लॉट्स खाली हैं। राजस्थान के पास तीन और पंजाब के पास 5 विदेशी खिलाड़ियों के लिए जगह बची हुई है। दिल्ली और कोलकाता के पास 8-8 स्लॉट्स बचे हैं। दिल्ली के पास 3 जबकि कोलकाता के पास 2 विदेशी खिलाड़ियों के लिए जगह बची हुई है। मुंबई के पास 7 खाली स्लॉट्स में 3 जगहें विदेशी खिलाड़ियों के लिए हैं। चेन्नई के पास 6 स्लॉट्स खाली हैं, जिसमें एक विदेशी खिलाड़ी की गुंजाइश है। सबसे कम स्लॉट्स सनराइजर्स हैदराबाद के पास बचे हुए हैं। हैदराबाद के पास खाली बचे तीन स्लॉट्स में से एक विदेशी खिलाड़ी के लिए जगह बाकी है।   

भले ही आरसीबी के पास सबसे ज़्यादा 11 स्लॉट्स खाली पड़े हों लेकिन सबसे ज़्यादा खजाना पंजाब किंग्स के पास है। पंजाब किंग्स के पास 53.2 करोड़ रुपये बचे हैं। इसके बाद राजस्थान के पास 37.85 करोड़ का खजाना बचा हुआ है। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के पास 35.4 करोड़ बचे हैं। ऐसे में सबसे महंगी बोली पंजाब के बाद बैंगलोर और राजस्थान रॉयल्स की टीम लगा सकती है। जाहिर है, इस ऑक्शन में सबसे महंगा खिलाड़ी इन्हीं तीनों टीमों में से किसी एक के पास जाने की संभावना है। इनके अलावा चेन्नई के पास 19.9 करोड़, मुंबई के पास 15.35 करोड़, दिल्ली के पास 13.4 करोड़ रुपए बचे हुए हैं। पर्स में सबसे कम पैसे कोलकाता नाइट राइडर्स और हैदराबाद के पास बचे हैं। दोनों ही टीमों के पास 10.75 करोड़ रुपए बचे हैं।  

मैक्सवेल और शाकिब अल हसन के अलावा स्टीव स्मिथ, एरॉन फिंच, मोईन अली, सैम बिलिंग्स, केदार जाधव और जेसन रॉय जैसे खिलाड़ियों के लिए भी टीमों के बीच मार हो सकती है। एरॉन फिंच, स्टीव स्मिथ और जेसन रॉय के के लिए चेन्नई और दिल्ली की टीम जा सकती है। चेन्नई के पास एकमात्र विदेशी खिलाड़ी का विकल्प बचा है, लिहाज़ा चेन्नई शेन वॉटसन की कमी को भरने के लिए तीनों में से किसी एक बल्लेबाज़ को ज़रूर अपने पाले में करना चाहेगी। वहीं दिल्ली कैपिटल्स और कोलकाता नाईट राइडर्स भी इन तीनों में से किसी एक खिलाड़ी को खरीदना ज़रूर चाहेगी। हालांकि शॉन मार्श और हरभजन सिंह को लेकर टीमें खुलकर बोली लगा पाएंगी या नहीं, यह देखना भी काफी दिलचस्प होगा। 

आईपीएल की नीलामी में इस दफा आप मुंबई इंडियंस को भी जद्दोजहद करते हुए देख सकते हैं। क्योंकि टीम के पास ऑक्शन से पहले 15.35 करोड़ की रकम तो है। लेकिन, ऑक्शन से पहले टीम के पास केवल चार विदेशी खिलाड़ी ही उपलब्ध हैं। मुंबई इंडियंस में किरोन पोलार्ड, क्विंटन डीकॉक, ट्रेंट बोल्ट और क्रिस लिन का विकल्प मौजूद है। मुंबई की टीम में बेहतरीन प्रदर्शन कर सकने वाले भारतीय खिलाड़ियों की काफी अच्छी संख्या है। ऐसे में विदेशी खिलाड़ियों को खरीदने के लिए इस बार के ऑक्शन में मार हो सकती है। मुंबई के सामने विदेशी खिलाड़ियों को खरीदने में सबसे बड़ी चुनौती बैंगलोर, पंजाब और राजस्थान रॉयल्स दे सकती हैं। मुंबई इंडियंस और पंजाब किंग्स के बीच उमेश यादव को खरीदने का संघर्ष भी देखने में मिल सकता है।