Indore: PhD रईसा को कोई नहीं दे रहा नौकरी इसलिए बेचने लगी सब्जी

फर्राटेदार अंग्रेजी से अधिकारियों की बोलती बंद करने वाली रईसा अंसारी का वीडियो वायरल, भौतिक विज्ञान में पीएचडी रईसा को वर्ग विशेष के कारण नहीं मिल रही नौकरी

Updated: Jul 28, 2020 06:58 PM IST

Indore: PhD रईसा को कोई नहीं दे रहा नौकरी इसलिए बेचने लगी सब्जी

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर के एक सब्जी बेचने वाली महिला का फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल हो रहे इस वीडियो में महिला नगर निगम के अधिकारियों द्वारा फल-सब्जी का ठेला हटाने का विरोध कर रही है। इस दौरान वह अपनी फर्राटेदार अंग्रेजी से अधिकारियों की बोलती बंद कर देती है। महिला का नाम रईसा अंसारी है जिसने इंदौर की देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी से भौतिक विज्ञान में पीएचडी की पढ़ाई की है। हर कोई इस पढ़ी-लिखी सब्जी बेचने वाली महिला का फर्राटेदार अंग्रेजी सुनकर हैरान है।

रईसा इंदौर के मालवा मिल के पास ठेला लगाती है। हैरान करने वाली बात यह कि वह फिजिक्स में पीएचडी है बावजूद इसके सब्जी बेचने का काम करती है। उसका दावा है कि एक वर्ग विशेष से आने के कारण कोई भी रिसर्च इंस्टीट्यूट उसे नौकरी देने को तैयार नहीं है। मजबूरन वह खुद का और परिवार का पेट भरने के लिए सब्जी बेचने का काम करने लगी। रईसा का कहना है कि उसका परिवार करीब 60 वर्षों से यहां पर सब्जी का व्यवसाय करता है लेकिन अब नगर निगम के अधिकारी उसे यहां से हटाना चाहते हैं, अगर उसे यहां से हटा दिया गया तो उसके सामने परिवार को पालने का एक बड़ा संकट खड़ा हो जाएगा।

दरअसल, इंदौर में कोरोना संक्रमण और सोशल डिस्टेंसिंग के निर्देशों का पालन करते हुए फल-सब्जी व अन्य वस्तुओं के ठेले लगाने वाले लोगों को नगर निगम हटा रही है। इस दौरान निगम कर्मियों का अमानवीय चेहरा भी सामने आया था जब एक अंडा बेचने वाले बच्चे का ठेला उन्होंने पलटा दिया था। इसी क्रम में अब सब्जी बेचने वाली इस महिला का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि निगमकर्मी द्वारा गुरुवार को ठेला हटाने के रईसा ने विरोध किया। निगम की करवाई में उस समय दिलचस्प मोड़ आ गया जब सब्जी का ठेला लगाने वाली इस महिला अधिकारियों के सामने खड़ी हो गयी और फर्राटेदार अंग्रेजी बोलकर उनकी बोलती बंद कर दी और अधिकारियों को वापस जाना पड़ा। सोशल मीडिया पर लोग रईसा को एक मिशाल की तरह पेश कर रहे हैं।