न्यूज़ीलैंड में पुलिसवर्दी में हिजाब शामिल, जीना अली ऐसी वर्दी पहनने वाली पहली महिला सिपाही होंगी

न्यूजीलैंड में मुस्लिम महिलाओं को पुलिस ज्वाइन करने के लिए प्रोत्साहित करने के मकसद से वर्दी में हिजाब को शामिल किया गया, जीना अली ने हिजाब डिजाइन करने में भी की है मदद

Updated: Nov 18, 2020, 07:42 PM IST

न्यूज़ीलैंड में पुलिसवर्दी में हिजाब शामिल, जीना अली ऐसी वर्दी पहनने वाली पहली महिला सिपाही होंगी
Photo courtesy: dawn

न्यूजीलैंड में पुलिस की वर्दी में हिजाब को शामिल किया गया है। कांस्टेलबल जीना अली हिजाब पहनने वाली पहली पुलिसकर्मी होंगी। कांस्टेबल जीना अली के लिए विशेष रूप से इसे डिजाइन किया गया है। मुस्लिम महिलाओं को पुलिस सेवा में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने के मकसद से वर्दी में हिजाब को शामिल किया गया है।

न्यूजीलैंड हेराल्ड में छपी रिपोर्ट के अनुसार जीना इस हफ्ते पुलिस अधिकारी बन जाएंगी। वे न्यूजीलैंड की पहली ऐसी पुलिसकर्मी बनेंगी जो वर्दी में शामिल हिजाब पहनकर ड्यूटी करेंगी। जीना ने ऐसा हिजाब बनाने में पुलिस की मदद भी की है,  यह हिजाब उनकी ड्यूटी और धर्म के अनुरूप है। जीना का मानना है कि ज्यादा से ज्यादा मुस्लिम महिलाओं को आगे आने की जरूरत है।

पुलिस सेवा के जरिए देश की सेवा करने का जज्बा रखने वाली जीना का कहना है कि उन्हें गर्व है कि वह अपने समुदाय-खासकर महिलाओं का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। वर्दी में हिजाब को शामिल किए जाने से दूसरी महिलाओं को भी पुलिस अफसर बनने के लिए प्रेरणा मिलेगी। वर्दी में हिजाब को शामिल किए जाने के बाद अब वे औरतें भी पुलिस अफसर बनने का सपना पूरा कर सकती हैं, जो पहले इसके बारे में  सोच भी नहीं सकती थी।।

जीना का कहना है कि उन्हें यह देखकर बेहद खुशी हो रही है कि पुलिस सेवा में उन्हें आगे बढ़ाने के लिए उनके धर्म और संस्कृति का ध्यान रखा गया। उनका कहना है पुलिस ट्रेनिंग में भी उनकी व्यक्तिगत जरूरतों का ख्याल रखा गया। आपको बता दें कि न्यूजीलैंड पुलिस ने 2008 में अपनी वर्दी में पगड़ी को भी जगह दी थी। 

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में पिछले साल हुए आतंकवादी हमले के बाद तीस वर्षीय जीना ने मुस्लिम समुदाय की मदद करने के लिए पुलिस में शामिल होने का फैसला लिया था। गौरतलब है कि उस हमले में दो मस्जिदों में 51 लोग मारे गए थे।