छत्तीसगढ़ में डेढ़ साल बाद खुले 10वीं और 12वीं के स्कूल, 50 फीसदी क्षमता के साथ लगेंगी क्लास

डेढ़ साल बाद खुले छत्तीसगढ़ के स्कूल में पहले दिन कम रही छात्रों की उपस्थिति, शिक्षा विभाग के कार्यक्रम में उड़ी कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां

Updated: Aug 02, 2021, 05:47 PM IST

छत्तीसगढ़ में डेढ़ साल बाद खुले 10वीं और 12वीं के स्कूल, 50 फीसदी क्षमता के साथ लगेंगी क्लास
Photo Courtesy: Bhaskar

रायपुर। छत्तीसगढ़ में करीब डेढ़ साल बाद एक बार फिर सोमवार से स्कूल खुल गए हैं। 2 अगस्त से कक्षा 10वीं और 12वीं की क्लासें लगने लगी हैं। एक तरफ जहां छात्रों की सुरक्षा के कई कड़े नियम बनाए गए हैं, वहीं स्कूल खुलने के औपचारिक कार्यक्रम में कोरोना गाइड लाइन का जमकर मखौल उड़ाया गया। रायपुर के आमापारा स्थित आरडी तिवारी इंग्लिश मीडियम एक्सीलेंस स्कूल में सत्र का उद्घाटन कार्यक्रम रखा गया था। इस मौके पर प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री डॉक्टर प्रेमसाय सिंह टेकाम, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, समेत स्कूल शिक्षा सचिव भी मौजूद थे। इस कार्यक्रम में बच्चों से मेहमानों का स्वागत करवाया गया। इसके बाद सभी को एक छोटे से हाल में बैठा दिया गया। इस दौरान शिक्षा विभाग के अफसर, स्कूल स्टाफ, स्कूली छात्र और मंत्री के काफिले और जनप्रतिनिधियों के साथ आए लोग शामिल थे।

एक्सिलेंस स्कूल प्रबंधन में बच्चों को फैंसी ड्रेस में बुलाया गया था। नेताओं-अधिकारियों का स्वागत उन्हीं छात्रों से करवाया गया। इस सत्र आरंभ के उद्घाटन कार्यक्रम में एक छोटे से कमरे में बड़ी संख्या में लोगों को बैठा दिया गया। छात्रों के साथ ही शिक्षकों और अन्य मेहमानों को बैठाया गया। कार्यक्रम के दौरान काफी देर तक बच्चों को भीड़ के बीच ही बैठना पड़ा।

इस उद्घाटन कार्यक्रम में फिजिकल डिस्टेंसिंग, मास्क जैसे कई प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया। करीब एक घंटे तक बच्चों को जबरन भीड़ का हिस्सा बनना पड़ा। अब बच्चों के परिजनों को डर है कि कहीं उनमें संक्रमण का खतरा ना हो जाए। जब इस बारे में स्कूल शिक्षा विभाग से पूछा गया तो उन्होंने रटा रटाया जवाब दे दिया कि वहां कोरोना गाइड लाइन का पालन किया गया। जबकि तस्वीरें कुछ और ही कहानी बयां कर रही थी।

 

स्कूलों में कक्षाओं की शुरुआत तो हो गई है, साथ ही जो छात्र स्कूल नहीं आना चाहते उनके लिए ऑफलाइन पढ़ाई के साथ ऑनलाइन क्लास का भी इंतजाम पहले की ही तरह जारी रहेगा। स्कूल दो शिफ्ट में लगेंगे। सुबह 7 से 11 बजे तक और सेकंड शिफ्ट में दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक क्लासें होंगी।

दरअसल प्रदेश सरकार ने सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को खोल दिया है। स्कूलों में आधी क्षमता से छात्रों की कक्षांए लगना शुरु हो गई है। 10वीं-12वीं के स्टूडेंट्स अपने अभिभावकों की लिखित अनुमिति के बाद स्कूल आ सकते हैं। पहले दिन कुछ स्कूलों में माला पहनाकर छात्रों का भव्य स्वागत किया गया। सबसे पहले छात्रों का हाथ सैनेटाइज करवा कर उनका तापमान चेक किया गया। फिर उन्हें अंदर प्रवेश दिया गया।

दरअसल देशभर के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में भी स्कूलों को मार्च 2020 में बंद कर दिया गया था। इस साल बोर्ड परीक्षाओं के ठीक पहले फरवरी में कक्षा 10वीं और 12वीं के लिए स्कूल खोले गए थे, लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से स्कूलों को बंद कर दिया गया था।