बच्चों पर भारी पड़ रही कोरोना की तीसरी लहर, छत्तीसगढ़ में दर्जनभर स्कूली छात्र कोविड पॉजिटिव

बीते 24 घंटे में प्रदेश में मिले हैं ढ़ाई हजार से ज्यादा मरीज, कोरोना संक्रमितों में 1 से 18 साल के बच्चे, ज्यादातर को सर्दी, खांसी, बुखार की शिकायत, बच्चों के लिए स्पेशल वार्ड और ICU रायपुर में हुआ तैयार

Updated: Jan 08, 2022, 06:59 PM IST

बच्चों पर भारी पड़ रही कोरोना की तीसरी लहर, छत्तीसगढ़ में दर्जनभर स्कूली छात्र कोविड पॉजिटिव
Photo Courtesy: Business standard

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे है, बीते 24 घंटों में 2828 नए कोरोना संक्रमितों की पुष्टि हुई है। जो कि गुरूवार को मिले मरीजों से 428 ज्यादा है। गुरुवार को 2400 मरीज मिले थे। बढ़ते मरीजों की संख्या के मद्देनजर प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट 6.32% तक पहुंच गई है। सबसे ज्यादा 899 मरीज राजधानी रायपुर में मिले हैं। शुक्रवार 2828 मरीजों में से रायगढ़ में 364, दुर्ग में 293, बिलासपुर में 279, कोरबा में 268, जशपुर में 153 और जांजगीर-चांपा में 142 मरीज मिले हैं। रायपुर में संक्रमितों में एक साल के बच्चों से लेकर 70 साल के बुजुर्ग भी शामिल हैं। संक्रमित बच्चों में एक साल से 18 साल तक के बच्चों महामारी से जूझ रहे हैं।

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले के दो स्कूलों के आधा दर्जन से ज्यादा बच्चों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। ये छात्र आत्मानंद स्कूल मरवाही और डीएवी स्कूल के छात्र हैं। सभी छात्र 13 से 16 साल के बीच के हैं। जिले में कक्षा 1 से 8 तक के स्कूल अगले तीन दिन के लिए बंद कर दिए गए हैं। छात्रों के संपर्क में आए बच्चों का टेस्क करवाया जा रहा है। वहीं दंतेवाड़ा के किरंदुल के एक स्कूल में 3 छात्रों में संक्रमण मिला है। कोरबा के जवाहर नवोदय विद्यालय में एक छात्रा और स्कूल स्टाफ के 12 लोग संक्रमित मिले हैं। सुकमा के गादीरास इलाके में राजीव गांधी शिक्षा मिशन द्वारा संचालिच पोटाकेबीन आश्रम के 4 बच्चों में संक्रमण मिला है। यहां करीब 28 बच्चों को सर्दी खांसी थी।   

और पढ़ें: जानिए किसे है कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने की छूट, किसे होगी सजा

कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर सरकार अलर्ट पर है। रायपुर के आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर में अस्थायी कोविड अस्पताल में शिशुओं और छोटे बच्चों के लिए स्पेशल वार्ड और ICU को एक्टिव कर दिया गया है। 250 बिस्तरों वाले अस्पताल में नवजात बच्चों के लिए नियोनेटल मशीने भी मौजूद हैं।